पिछले साल के मुकाबले 54 प्रतिशत बढ़े टैक्स देने वाले

Foto

Business News / व्यापार समाचार

नई दिल्ली। नोटबंदी के दो साल पूरे होने पर एक तरफ जहां विपक्ष लगातार केंद्र सरकार पर हमला बोल रही है वहीं दूसरी तरफ सरकार इसके फायदे गिनाने में लगी हुई है। इस बीच केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अध्यक्ष सुशील चंद्र का कहना है कि इस साल अब तक छह करोड़ से अधिक लोगों ने आयकर रिटर्न दाखिल किया है जो पिछले वर्ष के मुकाबले 54 प्रतिशत अधिक है। उन्होंने नई दिल्ली में भारतीय अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेले में सीबीडीटी मंडप का उद्घाटन करने के बाद पत्रकारों को यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2017-18 के दौरान प्रत्यक्ष करदाताओं की संख्या बढ़कर छह करोड़ 85 लाख हो गई। सीबीडीटी अध्यक्ष ने बताया कि नोटबंदी से देश का कर-आधार बढ़ाने में मदद मिली है। साथ ही सुशील चंद्र ने बताया कि हमें उन लोगों की पहचान करने में आसानी हो गई है जो टैक्स जमा नहीं करते थे। नोटबंदी के समय भारी मात्रा में कैश जमा किया। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के लिए खुद को निशाना बनाये जाने पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी पर तंज कसा था। पीएम मोदी ने बिना किसी का नाम लिए कहा था, 'वो नोटबंदी का हिसाब चाहते हैं। नोटबंदी की वजह से फर्जी कंपनियों की पहचान हुई। उसकी वजसे से आपको जमानत लेनी पड़ी आप क्यों भूल जाते हैं कि नोटबंदी के कारण ही आपको जमानत मांगनी पड़ी।'

नोटबंदी के कारण फर्जी कंपनियों पर कार्रवाई से जुड़े प्रधानसेवक के बयान पर राहुल गांधी ने उनपर निशाना साधा। साथ ही दावा किया कि नोटबंदी के बाद भाजपा अध्यक्ष अमिता शाह के पुत्र एवं केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल की कंपनियां फर्जी पाई गई।

यह भी पढ़ें: राफेल डील: राहुल बोले - 'सुप्रीम कोर्ट में मोदीजी ने मानी अपनी चोरी'

यह भी पढ़ें: लखनऊ: RBI के सामने कांग्रेसियों का प्रदर्शन, मांगा नोटबंदी का हिसाब

leave a reply

व्यापार के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी