देश का बैंकिंग क्षेत्र मजबूती की ओर : RBI गवर्नर

Foto

Business News / व्यापार समाचार

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा है कि देश का बैंकिंग क्षेत्र डूबे ऋण में कमी के साथ मजबूती की ओर है हालांकि बैंक प्रशासन में सुधार की जरूरत है। 

मुंबई में रिजर्व बैंक की वार्षिक वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट में उन्होंने कहा कि संकट के लंबे दौर के बाद डूबे ऋण में कमी से बैंकिंग क्षेत्र में मजबूती आ रही है। उन्होंने कहा कि कमजोर सरकारी बैंकों में पूंजी लगाए जाने की जरूरत है।

रिपोर्ट के अनुसार कुल डूबा ऋण अनुपात पिछले वर्ष सितंबर में 10 दशमलव 8 प्रतिशत पर आ गया जबकि मार्च में यह साढ़े ग्यारह प्रतिशत था। उन्होंने कहा कि डूबे ऋण का स्तर अभी भी अधिक है लेकिन किए गए उपायों से भविष्य में इसमें और कमी आने का अनुमान है।

आरबीआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि त्वरित सुधारात्मक कार्रवाई (पीसीए) ढांचे से बैंकों का घाटा कम करने में मदद मिलेगी। 21 सरकारी बैंकों में से 11 को पीसीए की निगरानी में रखा गया है। इसके तहत इन बैंकों को नया कर्ज देने या नई शाखाएं खोलने पर रोक लगा दी गई थी।

केंद्रीय बैंक के गवर्नर ने वित्तीय क्षेत्र में व्यापक सुधार के लिए नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों की मजबूती पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा, 'खुदरा कर्ज में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली इन कंपनियों को अपने जोखिम प्रबंधन पर विशेष ध्यान देना होगा।

यह भी पढ़ें: भूटान के प्रधानमंत्री से मिले राहुल, कहा - 'संवाद जारी रहेगा'

यह भी पढ़ें: वादा लाखों किसानों से और कर्ज माफी सिर्फ 800 की:पीएम मोदी

leave a reply

व्यापार के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी