loader

डॉलर के सामने रुपया लुढ़का, 73 के करीब पहुंचा

Foto

Business News / व्यापार के समाचार

नई दिल्ली। डॉलर के मुकाबले रुपया लगातार कमजोर होता जा रहा है। रुपया हर दिन नया निचला स्तर छू रहा है। बुधवार को एक बार फिर रुपए ने डॉलर का निचला स्तर छुआ है। शुरुआती करोबार में ही रुपया 72.91 प्रति डॉलर तक लुढ़क गया, जो अब तक का सबसे निचला स्तर है। मंगलवार को डॉलर 72.69 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। 

पिछले एक महीने में डॉलर का भाव करीब 4 रुपए तक बढ़ा है। एक महिने पहले यानि 12 अगस्त को इसका भाव 69 रुपए से नीचे था। अब यह करीब 73 रुपए के करीब हो गया है। रुपए में लगातार हो रही गिरावट के कारण पेट्रोल और डीजल की कीमतों में आग लगी हुई है।

यह भी पढ़ें: दिलबाग सिंह बने रहेंगे जम्मू कश्मीर के प्रभारी डीजीपी

अंतर्राष्ट्रीय बजारों में कच्चे तेल की कीमतों में जारी उथल-पुथल ने रुपये को अस्थिर किया। साथ ही महीने के अंत में आयातकों की ओर से डॉलर की मांग बढ़ी है जिसके चलते रुपये में गिरावट हो रही है। इस साल डॉलर के मुकाबले रुपया 9.90 फीसदी गिरा है। अगस्त की बात करें तो इसमें 3.30 फीसदी की गिरावट देखने को मिल रही है।

रुपये के कमजोर होने से अब विदेश की यात्रा आपको थोड़ी महंगी पड़ेगी क्योंकि आपको डॉलर का भुगतान करने के लिए ज्यादा भारतीय रुपये खर्च करने होंगे। फर्ज कीजिए अगर आप न्यूयॉर्क की हवाई सैर के लिए 3000 डॉलर की टिकट भारत में खरीद रहे हैं तो अब आपको पहले के मुकाबले ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे।

यह भी पढ़ें: यूपी में अगले 24 घंटे पड़ेंगे भारी, मौसम विभाग ने किया अलर्ट

अगर आपका बच्चा विदेश में पढ़ाई कर रहा है तो अब यह भी महंगा हो जाएगा। अब आपको पहले के मुकाबले थोड़े ज्यादा पैसे भेजने होंगे। यानी अगर डॉलर मजबूत है तो आपको ज्यादा रुपये भेजने होंगे। तो इस तरह से विदेश में पढ़ रहे बच्चों की पढ़ाई भारतीय अभिभावकों को परेशान कर सकती है।

डॉलर के मजबूत होने से क्रूड ऑयल भी महंगा हो जाएगा। यानि जो देश कच्चे तेल का आयात करते हैं, उन्हें अब पहले के मुकाबले (डॉलर के मुकाबले) ज्यादा रुपये खर्च करने होंगे। भारत जैसे देश के लिहाज से देखा जाए तो अगर क्रूड आयल महंगा होगा तो सीधे तौर पर महंगाई बढ़ने की संभावना बढ़ेगी।

 

leave a reply

व्यापार के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी