रेपो रेट की नई दर 6 फीसदी हो चुकी है। नए वित्त वर्ष 2019-20 की ये पहली मॉनिटरी पॉलिसी है, जिसे क्रेडिट पॉलिसी भी कहा जाता हैं।

Foto

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक ने लगातार दूसरी क्रेडिट पॉलिसी में रेपो रेट घटाया है, बता दें कि आरबीआई ने रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती की है। फिलहाल रेपो रेट की नई दर 6 फीसदी हो चुकी है। नए वित्त वर्ष 2019-20 की ये पहली मॉनिटरी पॉलिसी है, जिसे क्रेडिट पॉलिसी भी कहा जाता हैं। इसके बाद आपका होम लोन, आटो लोन और पर्सनल लोन सस्ता होने की उम्मीद है।

रिजर्व बैंक ने अपना मत न्यूट्रल रखा है। 

रिवर्स रेपो रेट अब 5.75 फीसदी होगी। वित्त वर्ष 2020 में विकास दर 7.2 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है, 4 सदस्यों ने 0.25 फीसदी रेपो रेट घटाने के पक्ष में वोट दिया। एमएसएफ और बैंक रेट को भी इसी हिसाब से एडजस्ट किया गया है, जनवरी से मार्च में सीपीआई 2.4 फीसदी रहने का अनुमान रिजर्व बैंक ने लगाया है। वहीं वित्त वर्ष 2020 की दूसरी छमाई में इसके बढ़कर 3.5 फीसदी से 3.8 फीसदी रहने का अनुमान है। रिजर्व बैंक ने अपना मत न्यूट्रल रखा है।

इसी तरह पहली छमाही में विकास दर 6.8 फीसदी से 7.1 फीसदी रहने का अनुमान है। वहीं दूसरी छमाही में विकास दर 7.3 फीसदी से 7.4 फीसदी रहने का अनुमान आरबीआई ने लगाया है। रिजर्व बैंक अब दिन में 11.45 बजे क्रेडिट पॉलिसी का एलान करता है।   

leave a reply

व्यापार के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी