बदहाल थर्मल पॉवर परियोजना बनी सरकार के लिए जी का जंजाल

Foto

व्यापार के समाचार/ BUSSINESS NEWS

समस्या के समाधान के लिए उच्च स्तरीय समिति का गठन

 

नई दिल्ली। बदहाल थर्मल परिसंपत्तियां देश के लिए हमेशा से चिंता का विषय रही हैं। सरकार ने इन पावर परियोजनाओं की स्थिति को सुधारने तथा ऐसी परिसंपत्तियों के समाधान के लिए उच्च स्तरीय समिति का गठन किया है। इस समिति की अध्यक्षता कैबिनेट सचिव करेंगे तथा यह समिति अधिकार संपन्न होगी।

 

ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने पलटा 21 साल पुराना फैसला...

 

इस समिति में रेल मंत्रालय, बिजली मंत्रालय, कोयला मंत्रालय तथा ऐसे ऋणदाताओं के प्रतिनिधि शामिल हैं जिन्होंने बिजली क्षेत्र में बहुत अधिक निवेश किया है या इस क्षेत्र का अनुभव रहा है।

 

ये भी पढ़ें- आयातित सोलर सेल पर 25 प्रतिशत सुरक्षात्मक शुल्क

 

यह समिति द्वारा पावर सेक्टर में व्याप्त विभिन्न मुद्दों की जांच करने और उन मुद्दों का हल ढूंढने के साथ ही निवेश को अधिकतम करने के लिए कदम उठाएगी। समिति द्वारा उठाए जाने वाले कदमों में शामिल हैं- ईंधन आवंटन नीति में बदलाव, नियामकीय संरचना, बिजली की बिक्री सुविधा के लिए तंत्र, भुगतान सुरक्षा तंत्र, दिवाला और दिवालियापन संहिता (IBC), परिसंपत्ति पुनर्गठन कंपनी (ARC) नियम और तनावग्रस्त परिसंपत्तियों के पुनरुद्धार के लिए प्रस्तावित अन्य उपाय, ताकि इन निवेशों को NPA बनने से रोका जा सके।  

 

 

leave a reply

व्यापार के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी