8 साल की बच्ची ने हॉस्टल में नवजात को दिया जन्म, मचा हड़कंप

Foto

अपराध के समाचार/crime news

 

भुवनेश्वर।  देशभर में नाबालिग बच्चियों का यौन उत्पीड़न रुकने का नाम नहीं ले रहा है। सख्त से सख्त कानून भी धरे के धरे रह गए हैं। अपराधी अपनी नापाक करतूतों को अंजाम देकर पुलिस को मुंह चिढ़ा रहे हैं। वहीं, सरकारें बेटियों की सुरक्षा को लेकर कानून बनाकर कुंभकरणी निद्रा में सो चुकी हैं। ओडिशा स्थित कंधमाल जिले से सरकारी हॉस्टल में रह रही 8 वर्षीय नाबालिग बच्ची ने नवजात को जन्म दिया। इस घटना के बाद मामले को गंभीरता से लेने की कौन कहे, उल्टे पीड़ित बच्ची को ही हॉस्टल से भगा दिय गया। बच्ची हॉस्टल से बाहर जाने के बाद जंगल में रहने को मजबूर हो गई।

 

प्रतीकात्मक चित्र
 

कार्रवाई की मांग


जब ममाले की जानकारी जिला कल्याण अधिकारी  को हुई तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में अधिकारी हरकत में आए। चारूलता मलिक ने इस घटना को शर्मनाक और दुखद बताया। वहीं, पुलिस ने बच्ची को खोजकर अस्पताल में एडमिट कराया है। डीएम डी ब्रूंडा ने कहा कि मामले में संस्थान के दो मैट्रन, दो बावर्ची और अटेंडेंट, एक महिला पर्यवेक्षक और एक सहायक नर्स मिडवाइफ के खिलाफ कार्रवाई की गई है। इसके साथ ही प्राचार्या राधा रानी दलेई को निलंबित करने की कार्रवाई के लिए सिफारिश की जा चुकी है। 


सरकार पर हमला


वारदात के बाद इस मामले ने राजनीतिक सरगर्मी भी बढ़ गई है। कांग्रेस और बीजेपी ने यहां कि बीजद सरकार पर हमला बोलते हुए कानून व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर दिया है। अनुसूचित जाति जनजाति मंत्री रमेश माझी ने डीएम को जांच के बाद रिपोर्ट सौंपने का आदेश दिया है। बताया जा रहा है कि पुलिस ने मामले में तृतीय वर्ष के छात्र को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

 

प्रतीकात्मक चित्र

 

यह भी पढ़ें:   छत्रिय महासभा ने सपा प्रवक्ता सुनील का पुतला फूंका

 

यह भी पढ़ें:   आप और अपना दल के बीच हुआ गठबंधन,मिलकर लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी