आतंकी फंडिंग नेटवर्क के सदस्य ​गिरफ्तार, पकड़े गए सदस्यों मे से कई लाॅटरी के फ्राड का पैसा समझ रहे थे

Foto

लखनऊ। आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने पाकिस्तान से चलाए जा रहे आतंकी फंडिंग नेटवर्क का भंडाफोड़ कर बड़ी कामयाबी हासिंल की है, पुलिस और एटीएस की संयुक्त टीमों ने इस नेटवर्क से जुड़े 10 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से भारी मात्रा में एटीएम, डेबिट कार्ड, मैग्नेटिक कार्ड रीडर, स्वैप मशीन समेत 52 लाख रूपए नकद बरामद किए है।  

आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) के मुताबकि लश्कर ए तैयबा का एक आतंकी पाकिस्तान से इसे संचालित कर रहा था। वह लाहौर से फोन और इंटरनेट के माध्यम से नेटवर्क के सभी मेंबरों के सम्पर्क में रहता था। पाकिस्तान के आका सिमबाॅक्स के अवैध नेटवर्क द्वारा काॅल की जाती थी इस नेक्सेस के तार नेपाल से भी जुड़े हुए हैं। हिरासत में लिए गए अभियुक्तों को ट्रंजिट रिमांड के लिए मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया है।  

एटीएस के आइजी असीम अरूण के मुताबिक गिरफ्तार लोगों ने आतंकी फंडिंग नेटवर्क में शामिल होना स्वीकार किया है। गिरफ्तार किये गए अभियुक्तों में से कुछ को यह नहीं पता था कि यह पैसा आतंकी गतिविधियों के लिए आता है। वे इस लाॅटरी के फ्राड का पैसा समझ रहे थे, और इनमें से कुछ जानते थे कि यह आतंकी फंडिंग है। 

डिफैंस जासूसी कांड से जुड़े हैं तार   

एटीएस सूत्रों के अनुसार इस नेटवर्क के तार 2016 में सेना की गुप्त सूचना देने वाले आइएसआइ एजेंट से भी जुड़े रहे हैं। 2016 में आइएसआइ एजेंट तरसेम लाल और सेना की गुप्त सूचना पाकिस्तान को देने वाले सतविंदर और दादू को जम्मू में गिरफ्तार किया गया था। जिनकी आर्थिक मदद मध्यप्रदेश का बलराम करता था, बलराम पछले साल गिरफ्तार हो चुका है।    

इनकी हुई गिरफ्तार    
आतंकी फंडिंग को लेकर एटीएस ने जिन लोगों को गिरफ्तार किया है उनमें ग्राम भदेसर प्रतापगढ़ के संजय सरोज, ग्राम भदेसर प्रतापगढ़ निवासी नीरज मिश्रा, लखनऊ पीजीआइ साहिल मसीह, रीवा मध्य प्रदेश के उमा शंकर सिंह, गोपालगंज बिहार निवासी मुकेश , पडरौना कुशीनगर निवासी निखिल राय, जीयनपुर आजमगढ़ अंकुर राय, खोराबार गोरखपुर दयानंद यादव, गांधी गली गोरखपुर नसीम अहमद और नईम अरशद को गरफ्तार किया किया गया है।  

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी