छात्राओं की बेरहमी से पिटाई, मचा हड़कंप

Foto

अपराध के समाचार/crime news


शाहजहांपुर। स्कूलों में बच्चों की पिटाई नहीं करने का आदेश धरा का धरा रह गया है। आदेश आने के बावजूद बच्चों की पिटाई के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। ऐसा ही एक मामला शाहजहांपुर जिले से सामने आया है। जहां फाइल चोरी के शक पर उच्च प्राथमिक विद्यालय में पढ़ने वाले तीन छात्राओं को शिक्षिका ने बेरहमी से पीट दिया गया। शिक्षिका ने बच्चियो को इतनी बुरी तरह से पीटा कि बच्चियां चल भी नहीं पा रहीं।बच्चियों के परिजनों ने अध्यापक के खिलाफ पुलिस को तहरीर देकर कर्रवाई की मांग की है। वहीं, पुलिस ने परिजनों की तहरीर के आधार पर मामले की जांच शुरू कर दी है।

 


क्या है मामला


मामला कोतवाली थाना क्षेत्र के उच्च प्राथमिक विद्यालय किला का है। यहां मोहल्ला किला निवासी तीन छात्राएं इरम, मुस्कान तथा एक अन्य छात्रा कक्षा 6 में पढ़ती हैं। छात्राओं के परिजनों का आरोप हैं कि शिक्षिका पूर्णिमा रस्तोगी को कोई जरूरी फाइल नहीं मिल रही थी। काफी खोजबीन करने के बाद जब फाइल नहीं मिली तो शिक्षका ने अपना आपा खो दिया। इसक बाद उसने फाइल चोरी का आरोप तीनो बच्चियो पर लगा दिया। जब बच्चियों ने फाइल के बारे में अनभिज्ञता जताई तो शिक्षिका ने बच्चियो को बेरहमी से मारना पीटना शुरू कर दिया। जिससे स्कूल परिसर में चीख पुकार मच गयी। लेकिन स्कूल में मौजूद स्टाफ ने बच्चियों को बचाने की जहमद नहीं। उठायी।

 


शिक्षिका हुई फरार


शोर सुनकर आस पास के लोग स्कूल परिसर में पहुंच गये। भीड़ देखकर शिक्षका स्कूल से फरार हो गयी। इसके बाद पीड़ित बच्चियों के परिजनों ने शिक्षिका के खिलाफ कोतवाली पुलिस को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की। सूचना मिलने के बाद नगर मजिस्ट्रेट, खंड शिक्षा अधिकारी,सी ओ सिटी सहित तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे और उन्होंने बच्चियों के बयान लिए। बेसिक शिक्षा अधिकारी ने जांच के बाद शिक्षिका पर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया। दूसरी ओर सबसे बड़ी बात यह निकलकर सामने आयी कि आरोपी शिक्षिका छुट्टी पर थी। इसके बाद भी आखिर ऐसी कौन सी फाइल जरुरी थी, जिसके लिए शिक्षिका को स्कूल जाना पड़ा और इतनी बड़ी घटना को अंजाम देना पड़ा। 

 

यह भी पढ़ें:   यूपी-उत्तराखण्ड में जहरीली शराब का कहर जारी,92 के पार पंहुची मरने वालों की...

यह भी पढ़ें:   शादी का दबाव बनाने पर डाक्टर ने की थी नर्स की हत्या

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी