दबंग दरोगा की काली करतूत, नाबालिग को जबरन उठा ले गया थाने और​ किया गंदा काम

Foto

अपराध के समाचार/crime news 

 

रोहित रायल सिद्दीकी


फर्रुखाबाद। फर्रुखाबाद में पुलिस अफसरों की घिनौनी हरकतें रुकने का नाम नहीं ले रही है। यहां अमृतपुर थाने के दबंग दरोगा दलबीर सिंह ने नाबालिग बच्चे के साथ ऐसी दरिंदगी को अंजाम दिया कि सच जानकार आपकी भी रूह कांप उठेगी। यही नहीं मासूम बच्चे से हैवानियत के बाद भी दरोगा धमकी भरे लहजे में ही बात कर रहा है। पीड़ित परिजनों का आरोप है कि दरोगा ने धमकी दी है, उसे न तो डीएम से शिकायत का खौफ है और न तो एसपी से। वैसे भी डर क्यों हो? जब अधिकारियों को जांच में ही खेल करना है और मालूम हो कि उनका कुछ नहीं होना है।

 

 

क्या है ममला


पुलिस की वर्दी को शर्मसार करते हुए दबंग दरोगा दलबीर सिंह नबालिग बच्चे को घर से जबरन थाने उठा लाए। इसके बाद यहां जमकर बेरहमी से मासूम की पिटाई की। दरोगा की हैवानियत इस कदर है कि उस पर अधिकारियों को तत्काल एक्शन लेना चाहिए। लेकिन उच्च अधिकारी आराम फरमाइशी और जांच के खेल में व्यस्त और मस्त हैं। बताते चलें कि जब बच्चे के पिता थाने पहुंचे और पुलिस से सवाल किया था तो कोई जवाब नहीं देकर डांटकर भगा दिया। हालांकि, किसी भी तरह की रिपोर्ट दर्ज नहीं होने पर पुलिस ने मासूम बच्चे को छोड़ दिया। लेकिन पुलिस के इस हैवान और घिनौने चेहरे के सामने आने पर इलाके में दहशत का माहौल है। दरोगा का आंतक यहां इस कदर है कि गरीब भी डरे सहमे रहते हैं। भले ही फर्रुखाबाद की पुलिस अपराधियों पर नकेल कस नहीं पा रही है, लेकिन मासूमों और गरीबों पर सितम ढहाने में अच्छा नाम कमा रही है।

 

 

डीएम से शिकायत

 

थाना अमृतपुर क्षेत्र के बनारसीपुर ग्राम के निवासी दलबीर के नबालिग बेटे विकास  को जबरन घर से उठा ले गई। यहां घंटो तक थाने में रखा और हैवान बन जमकर पिटाई की। पीड़ित बच्चे के पिता ने जब थाने पहुंचकर नाबालिक बच्चे को थाने लाने का कारण पूछा तो अभद्रता पर उतारु हो गई। किसी प्रकार कोई रिपोर्ट दर्ज नहीं होने के चलते पुलिस ने बच्चे को देर रत छोड़ दिया। पीड़ित परिजनों ने मामले की शिकायत डीएम मोनिका रानी व पुलिस अधीक्षक से मिलकर की। लेकिन हैरान करने वाली बात यह है कि हैवान और दबंग दरोगा  एक बच्चे के साथ इस तरह की दरिंदगी से भी बाज नहीं आया। अब पीड़ित को धमकी दी जा रही है कि अधिकारी से शिकायत के बाद भी उसका कुछ नहीं बिगाड़ पाओगे। वहीं, ज​ब एसपी से मामले को लेकर बात की गई तो कहा कि दलबीर नाम का कोई भी थाने में नहीं है। हैरान करने वाली बात है कि एसपी महोदय को अपने मातहतों की तैनाती कहां है, इसकी ही जानकारी नहीं है। ऐसे में वह जांच और कार्रवाई क्या करेंगे। वहीं, खुद दरोगा को भी अपना नाम मालूम नहीं है।

 

क्या कहती हैं डीएम


''डीएम मोनिका रानी से बातचीत पर उन्होंने कहा कि मामले की शिकायत उनके पास आई थी। एसपी को इस संबंध में अवगत कराया गया है। आगे की क्या कार्रवाई की गई वही बता पाएंगे।''


क्या कहते हैं एसपी


''एसपी से मामले को लेकर जब बात की गई तो उन्होंने कहा कि दरोगा का नाम आप कन्फर्म करें। वैसे भी अभी तहसील दिवस में बैठे हुए हैं।  

 

हैरान करने वाली बात है कि थाने में दलबीर सिंह दरोगा जैसे किसी भी नाम का पुलिस नहीं होने की बात एसपी ने कही। जबकि उक्त थाने में इस नाम के ही दरोगा की मनमानी जारी है।


नाम बताने से डर रहा दरोगा


''जब मामले को लेकर अमृतपुर थाने के दरोगा से बात की गई और उनसे नाम जानने की कोशिश की गई तो उन्होंने कहा कि हां हां ठीक है। नाम बताने से भी दरोगा ने इंकार कर दिया और फोन काट दिया।''
 

यह भी पढ़ें:   नाबालिग ने दरोगा पर लगाया रेप का आरोप, सच जान उड़ जाएंगे होश

यह भी पढ़ें:   आजम खान के खिलाफ दर्ज हुआ एक और मुकदमा

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी