दरिन्दों ने मंदसौर में दोहरायी निर्भया कांड जैसी दरिन्दगी

Foto

अपराध के समाचार/ Crime News
 

सात साल की बच्ची से गैंगरेप,पार की हैवानियत की सारी हदें,जिन्दगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है

पीड़िता,दोनो आरोपित गिरफ्तार

 नई दिल्ली। दिल्ली की वो खौफनाक रात जिसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था उसी खौफनाक दृश्य को दरिन्दों ने एमपी के मंदसौर में दोहराते हुए एक सात साल की बच्ची के साथ हैवानियत की सारी हदे पार कर दी और उसे मरा समझकर फेंक दिया गया। लेकिन कहावत,जाको रखे साईंया मार सके ना कोए, को चरितार्थ करते हुए ये बच्ची अभी भी एक अस्पताल में जिन्दगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है। मंदसौर में लोगों का गुस्सा सातवें आसमान पर है और वहां के लोगों ने इन वैहसियों को फांसी की सजा दिये जाने की मांग की है,पुलिस ने दोनो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

 मंदसौर में यह घटना उस वक्त हुई जब एक सात साल की बच्ची स्कूल से अपने घर वापस लौट रही थी,आरोपी ने उसे मिठाई खिलाने के बहाने अगवा किया और फिर दो लोगों ने उसके साथ रेप करने के साथ उसे सारी हदें पार करते हुए यातनाएं दी फिर मरा समझकर उसे खुले में फेंक कर फरार हो गये।

मध्य प्रदेश के मंदसौर में सात साल की मासूम बच्ची के साथ निर्भया जैसी दरिंदगी करने वाला दूसरा आरोपी भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया। इससे पहले पुलिस ने आरोपी इरफान खान को गिरफ्तार कर लिया था,इस घटना ने एक बार फिर दिल्ली के निर्भया कांड की यादें ताजा कर दी। 

मासूम बच्ची के साथ दरिंदगी करने वाले दूसरे आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया उसकी पहचान आसिफ के रूप में हुई है पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश कर रिमांड पर लेगी। फिलहाल,अभी पुलिस उससे पूछताछ कर रही है इससे पहले गिरफ्तार किए गए आरोपी इरफान को पुलिस पहले ही 2 जुलाई तक रिमांड पर ले चुकी है।

इंदौर के एमवायएच हॉस्पिटल में मासूम बच्ची जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है। डॉक्टरों के मुताबिक बच्ची की आंत और प्राइवेट पार्ट भीतर से अलग हो गए थे और उसकी आंतें बाहर आ गई थीं। उसे इतनी गहरी चोटें आई हैं कि उसकी सर्जरी 7 घंटे चली। उसके गले में भी सात टांके लगाए गए हैं। नाक पर जख्म इतने गहरे कि ट्यूब लगानी पड़ी और मुंह के घावों को ढंकने के लिए ल्यूकोप्लास्टी की गई।

बच्ची का इलाज करने वाले डॉ.ब्रजेश लाहोटी ने बताया कि बच्ची को गंभीर चोटें आई हैं उसे एक यूनिट ब्लड भी चढ़ाया गया है। बच्ची अभी भी सदमे में है, इससे बाहर निकलने में उसे वक्त लगेगा। बच्ची के साथ इस कदर दरिंदगी की गई कि डॉक्टर और पुलिस भी उसकी हालत देखकर कांप गए थे।

पुलिस का कहना है कि उन्होंने जांच के लिए अफसरों की 15 सदस्यीय टीम बनाई गई है 20 दिन में चालान पेश कर आरोपी को फांसी की सजा दिलाने की बात कही है।
अस्पताल में बच्ची के पास दो पुलिसकर्मी तैनात हैं परिवार को भी किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा माता-पिता बेबसी से बच्ची के ठीक होने का इंतजार कर रहे हैं। 
 

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी