डीजीपी साहब आखिर कब सुधरेगी आप की पुलिस?

Foto

अपराध समाचार

 

लखनऊ। सूबे के मुख्यमंत्री से लेकर डीजीपी तक अपनी पुलिस को चाहे जितना भी सुधारने और कानून व्यवस्था को मेंटेन रखने की नसीहत दे लें, लेकिन वे सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं। जिससे न सिर्फ आम अवाम परेशान और खौफजदा है बल्कि सरकार की छवि भी दिन—ब—दिन गिरती जा रही है। कुछ इसी तरह का वाकया राजधानी से सटे बाराबंकी जिले की पुलिस ने अंजाम दिया है। जहां एक फरियादी को ही पुलिस ने ताव में आकर पीट दिया। 

 

यह भी पढ़ें : उन्नाव रेप केस-यूनुस का हुआ पोस्टमार्टम, शव को फिर से दफनाया

 

जानकारी के मुताबिक जिले की ही एक महिला को  कुछ दबंगो ने मारपीट दिया था । महिला न्याय के लिए पुलिस के दर पर अपनी फरियाद लगार्इ् लेकिन लाख कहने और मिन्नते करने के बाद भी पुलिस वाले उसका मेडिकल चेकअप नहीं करा रहे थे और उसपर दबाव बना रहे थे कि जो हुआ उसे भूल जाओ। जिसकी शिकायत करने पहुंचा महिला का एक परिचित शिवस्वामी जब पीड़िता को लेकर सदर कोतवाली थाने पहुंचा। तब थाने में मौजूद दीवान मसूद असगर, चौकी इंचार्ज मंडी,चौकी इंचार्ज बड़ेल, इरशाद अहमद, पहरा ड्यूटी पर मौजूद पुलिसकर्मी जिसकी ड्यूटी सुबह 10:30 से 12:00 बजे तक थी।

सभी ने मिलकर फरियादी शिव स्वामी को के साथ जमकर मारपीट की जिसके कारण फरियादी के चेहरे व शरीर पर कई चोटे आ गई है। इतना ही नही बल्कि थानेदार धनंजय सिंह ने जबरन पीड़ित महिला से समझौता नामा लिखवा लिया।

 

यह भी पढ़ें : राजधानी की गुंडा पुलिस

 

वही पूरे मामले में डी.आई.जी ने घटना को संज्ञान में लेकर जांच के आदेश दिए है। बाराबंकी सीओ सुनील सिंह को इस मामले की जाँच सौंपी गई है। वही एसपी बाराबंकी वी पी श्रीवास्तव की जाँच अभी तक पूरी नही हो पाई है। बाराबंकी एसपी आरोपी पुलिस कर्मियों को बचाने में जुटे। अब देखना यह होगा की DIG के आदेश के बाद भी मारपीट करने वाले पुलिस कर्मियों पर कोई कार्यवाई होगी या सिर्फ खाना पूर्ति।

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी