'दूध में मिलावट पर हाईकोर्ट ने कहा, यह जीवन से खिलवाड़ है'

Foto

अपराध के समाचार

आरोपी पर गिरफ्तारी पर रोक की याचिका खारिज

लखनऊ । हाई कोर्ट ने दूध में यूरिया की मिलावट कर बेचने वाले एक आरोपी की गिरफ्तारी पर रोक लगाने से साफ इनकार कर दिया है। यह आदेश जस्टिस अजय लाम्बा और जस्टिस संजय हरकौली की बेंच ने अभियुक्त फरियाद अली की याचिका पर दिया। याची ने अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर को खारिज किए जाने की मांग की थी। हाईकोर्ट ने लोगों के जीवन से खिलवाड़ करने को गंभीर अपराध माना है।

 

यह भी पढ़ें-  टीचर की शर्मनाक हरकत, परिजनों ने चप्पलों से पीटा...

 

दरअसल मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने एक टैंकर व दो हजार लीटर से अधिक मिलावटी दूध बरामद किया था। साथ में यूरिया और नमक भी बड़ी मात्रा में बरामद किया गया था। मौके से पकड़े गए एक व्यक्ति रसूल अहमद ने बताया था कि वह मिलावट का काम अपने मालिक फरियाद अली के लिए करता है। याचिका में प्राथमिकी को चुनौती देते हुए कहा गया था कि याची के खिलाफ मिलावट करने का कोई सबूत नहीं है। मौके से पकड़े गए रसूल अहमद के बयान मात्र पर उसके खिलाफ केस कर दिया गया है।

 

यह भी पढ़ें- दबंग सिक्योरिटी गार्डों ने छात्र को जमकर पीटा

 

याचिका का विरोध करते हुए राज्य सरकार के अपर शासकीय अधिवक्ता रवि सिंह सिसोदिया ने तर्क दिया कि मुखबिर की सूचना पर मारे गए छापे में बहुत भारी मात्रा में दूध के साथ यूरिया व खतरनाक रासायनिक केमिकल पाए गए। विवेचना अभी शुरुआती अवस्था में है। उन्होंने कोर्ट से अपराध की गंभीरता को देखते को हुए याचिका खारिज किए जाने का अनुरोध किया। इस पर कोर्ट ने कहा कि याची की ओर से ऐसा कोई सबूत नहीं पेश किया गया है, जो अभियोजन के दावे को खारिज करता हो। जिसके बाद कोर्ट ने याचिका को खारिज करने का आदेश दे दिया। 

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी