डॉ. मनीषा सुसाइड मामले में निशाने पर डॉ. उधम

Foto

अपराध समाचार/crime news

काल डिटेल ने खोली पोल, गिरफ्तारी की लटकी तलवार

लखनऊ। केजीएमयू में क्वीन मेरी अस्पताल की जूनियर डाक्टर मनीषा के मोबाईल की कॉल डिटेल में सुसाईड से पहले एक ही नम्बर पर कई बार कॉल किये जाने की बात सामने आने के बाद डा.उधम सिंह की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं,गुरूवार को भी वजीरगंज पुलिस के द्वारा उधम सिंह से लम्बी पूछताछ की गयी थी और अब उन पर गिरफ्तारी की तलवार भी लटक रही है। पुलिस डा. मनीषा के लैपटॉप को भी विशेषज्ञों की मदद से खोलने का प्रयास कर रही है क्योकि मनीषा ने उसमें पासवर्ड डाल रखा था।

केजीएमयू में एमएस की पढ़ाई कर रही डा. मनीषा के द्वारा नशे के इंजेक्शन की ओवरडोज लेकर जान दिये जाने के बाद उसके परिजनों के द्वारा केजीएमयू के ही डा.उधम सिंह पर उसे प्रताड़ित करने की बात सामने आयी थी।

खुद उधम ने भी माना था कि मनीषा की उससे फोन पर नोंकझोंक हुई थी उसी के बाद मनीषा ने हास्टल में अपने कमरे में जाकर नशे के इंजेक्शन की ओवरडोज ले ली थी जिससे उसकी हालत बिगड़ गयी थी और बाद में उपचार के दौरान उसकी मौत हो गयी थी।

मनीषा की मौत के बाद उसकी बहन दीपा ने डा. उधम के खिलाफ वजीगंज थाने में तहरीर दी थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर तफ्तीश शुरू की तो उसमें भी उधम की भुमिका संदिग्ध मिली है। पुलिस ने बुद्वा हास्टल में उसके कमरे से उसका मोबाईल फोन व लैपटॉप कब्जे में लिया था पुलिस को वहां पर मेज पर एक सुसाईड नोट भी मिला था।

मनीषा की कॉल डिटेल में आखिरी बार एक ही नम्बर पर कई बार बात होने की बात सामने आने के बाद पुलिस का शक डा. उधम पर और भी गहरा गया है। अब डा. उधम पर गिरफ्तारी की भी तलवार लटकने लगी है। पुलिस मनीषा का लैपटॉप खुलने का भी इंतजार कर रही है। ऐसे आसार है कि लैपटॉप से भी बहुत कुछ तस्वीर साफ हो जायेगी।

यह भी पढ़ें:   मांगने गई थी न्याय दरोगा ने लूट ली अस्मत

यह भी पढ़ें:    खाना बना रही महिला पर  चाकुओं से हमला

यह भी पढ़ें:   शस्त्र पूजा के दौरान चल गई बंदूक फिर जो हुआ...

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी