जिंदा होकर छात्रा लौटी, मचा हड़कंप

Foto

अपराध के समाचार/crime news


 

बलराम सिंह 

बाराबंकी। मामला यूपी के बाराबंकी जिले का हैं जहा पिछले वर्ष 6 मार्च को थाना दरियाबाद अंतर्गत तारापुर की रहने वाली इंटरमीडिएट की छात्रा नेहा यादव सुबह सुबह यूपी बोर्ड की परीक्षा देने घर से निकली थी। लेकिन वो स्कूल तो नहीं पहुंची। रहस्यमयी तरीके से गायब नेहा को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की तो बताया कि उसने अपने प्रेमी प्रेम नारायण के साथ भागकर विवाह कर लिया है। कोर्ट मैरिज कर परिवार भी बसा लिया। यही नहीं प्रेमी से उसे एक संतान भी है। हैरान करने वाली बात है कि इस छात्रा के गायब होने पर पुलिस ने हत्या के मामले में दो बेकसूरों को जेल भेज दिया था। छात्रा की इस घिनौनी करतूत का परिणाम बेकसूरों को भुगतना पड़ा रहा है। वहीं, मामले में एक बार फिर पुलिस की लापरवाही से बड़ा सवाल खड़ा हो गया है। 


 
बेकसूरों की जिंदगी बर्बाद


बताते चलें कि छात्रा के गायब होने के बाद परिजनों ने कोई दूसरी लाश दिखाकर दो बेकसूरों पर एफआईआर दर्ज कराते हुए जेल भेज दिया था। छात्रा नेहा और उसके परिजनों ने मिलकर बेकसूरों की जिंदगी बर्बाद कर दी। लेकिन अब खुद परिजनों पर ही तलवार लटकने लगी है कि अखिर जो लाश पुलिस को दिखाई गई, वह किसकी थी। वहीं, जिस नेहा को लोग मृतक बता रहे थे, वह अपने प्रेमी के साथ घर बसाकर मौज काट रही है।  

 
ये है पूरा मामला

 

घर से नेहा ​के गायब होने पर उनके पिता भग्गुलाल यादव ने पुलिस में दो बेकसूरों पर हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया। परिवार वालों ने गांव के ही दुर्गेश यादव पर अपहरण के बाद हत्या का आरोप लगाया था। यही नहीं परिवार वालों की घिनौनी करतूत जान लोगों के होश उड़े हुए हैं। परिजनों ने किसी और की लाश को नेहा की लाश बताते हुए पहचान भी करा दी। जबकि यह बात किसी को पच नहीं रही कि परिजन अपनी ही बेटी को पहचान नहीं सकते। लेकिन बिना गंभीरता से जांच किए पुलिस ने भी बेकसूरों के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदम दर्ज कर जेल भिजवा दिया। इसके बाद नेहा को लोग भूल भी चुके थे। 

 

नए सिरे से जांच

 

बताते चलें कि जब जहांगीराबाद पुलिस को यह जानकारी हुई कि नेहा जिंदा है, तो नए सिरे से जांच शुरू कर दी। पुलिस ने नेहा को उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया। थाने लाकर जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ शुरू की तो सच्चाई उगल दिया। नेहा और उसके प्रेमी प्रेम नारायण ने बताया कि जब उसे दूसरे दिन पता चला की उसकी अपहरण और हत्या के मामले में उसके घर वालों ने गांव के ही अनिल यादव और राजू सिंह को झूठे मामले में फंसा कर जेल भिजवा रहे हैं। इसके बाद उन लोगों ने अपनी प्रेम कहानी को सबके सामने रख दी। 

 

पुलिस करेगी नया खुलासा


फिलहाल अब पुलिस इस मामले में लड़की के घरवालों के खिलाफ सुबूत जुटाने में लग गयी है। पुलिस अब उस लाश की भी सच्चाई नेहा यादव के घर वालों से उगलायेगी की कहीं इन दोनों को फर्जी मुकदमे में फंसा कर जेल भिजवाने के लिए किसी निर्दोष की हत्या तो नहीं कर दी। जो भी हो पुलिस के लिए यह मामला अब और भी पेचीदा हो गया है। कई तरह के सवाल खुद पुलिस की कार्यशैली को लेकर ही खड़े हा गए हैं। अब देखना ये होगा कि क्या पुलिस परिजनों के षड्यंत्र का पर्दाफाश कर पाती हैं या नहीं।

 

यह भी पढ़ें:   यूपी-उत्तराखण्ड में जहरीली शराब का कहर जारी,92 के पार पंहुची मरने वालों की...

यह भी पढ़ें:   शादी का दबाव बनाने पर डाक्टर ने की थी नर्स की हत्या

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी