माँ के शव को फ्रीज़र में रख कर तीन साल तक लेता रहा शव

Foto

कोलकाता के बेहला थाना इलाके के जेम्स लांग सरणी में शुभब्रत मजूमदार (46) ने शव का अंतिम संस्कार करने के बजाए अपने माँ  के शव को फ्रीज़र में रख कर उनकी जगह पेंशन लेता रहा,  ये एक ऐसा बेटा जो अपने  ही माँ के शव को तीन साल तक फ्रीजर में रखा। हर साल वह मां के शव से अंगूठे का निशान लगाकर जीवित होने का प्रमाण बैंक में पेश करता था। इसके बाद अकाउंट में आई पेंशन की रकम को वह डेबिट कार्ड के जरिए निकाल लेता था। इस तरह वह तीन साल से हर महीने 50,000 रुपए पेंशन ले रहा था। हैरत की बात यह है कि आरोपित का पिता भी उसके साथ ही रहता था। उसने इसको लेकर कोई आपत्ति भी नहीं की 

बेटे ने लेदर 'टेक्नोलॉजी 'की पढ़ाई की थी  और मां के शव को संरक्षित करने के लिए रसायनों का इस्तेमाल करता था। उसके पिता गोपाल चंद्र मजूमदार (89) उसी के साथ रहते हैं। वह भी एफसीआई में बड़े पद से सेवानिवृत्त हैं। मां बीना मजूमदार को 50 हजार रुपए प्रति महीने पेंशन मिलती थी । बताया जा रहा है कि पेंशन लेते रहने के लिए शुभब्रत ने ऐसा किया था।  इंजीनियरिंग की पढाई करने के बाद भी वह कोई नौकरी नहीं करता था और मां-बाप के पेंशन से ही गुजारा कर रहा था।

बेहला के बालानगर अस्पताल में बीना मजूमदार की मौत 2015 में  हो गई थी। पुलिस को अस्पताल प्रशासन ने बताया कि सात अप्रैल 2015 को रात 8 बजे बीना को भर्ती कराया गया था और उसी दिन रात 9.55 बजे उनकी मौत हो गई थी। मां की मौत के बाद अस्पताल से मिले डेथ सर्टिफिकेट को छिपाकर बेटे ने अवैध तरीके से लिविंग सर्टिफिकेट बनवा लिया था।

 पुलिस पिता से भी पूछताछ कर रही है कि आखिरकार उन्होंने बेटे की इस साजिश के बारे में किसी को जानकारी क्यों नहीं दी। पुलिस के सूत्रों की मानें को शुभब्रत की योजना की भनक पिता को मिल गई थी, इसलिए संभव है कि उन्होंने ही पुलिस को सूचना दी हो।

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी