ऑनलाइन करोडो की ठगी करने वाला गिरोह चढ़ा पुलिस के हत्थे

Foto

                                            क्राइम न्यूज़/ अपराध समाचार/ crime news 

ऑनलाइन मार्केटिंग साइट के माध्यम से फर्जी विज्ञापन के जरिये लोगों से ठगी करने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश कर लखनऊ पुलिस की चिनहट यूनिट ने 5 जालसाजों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किये जालसाजों के कब्जे से पुलिस को सैकड़ो की संख्या में सिम कार्ड, दर्जनों मोबाइल फोन, नगदी और इलेक्ट्रॉनिक सामान के साथ ही कई अन्य सामान भी बरामद हुआ है। पुलिस के मुताबिक जालसाज गिरोह के सभी सदस्य टीम वर्क की तरह ठगी के धंधे को अंजाम दे रहे थे। 

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि गिरफ्तार किये गए जालसाज फर्जी आईडी के जरिये सिम हासिल कर बैंको में खाता खुलवाते थे। इन्ही फर्जी खातों में ही ठगी की रकम जमा कराई जाती थी और बाद में ठगो द्वारा रकम निकाल कर खाते को बंद कर दिया जाता था। पुलिस अधिकारी के मुताबिक अभी तक आरोपियों के आधा दर्जन खातों की जानकारी मिल चुकी है बाकि की जानकारी संकलित की जा रही है।

एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक आरोपियों द्वारा ऑनलाइन मार्केटिंग साईट पर कीमती मोबाइल और अन्य कीमती इलेक्ट्रॉनिक सामान को बेचने का विज्ञापन दिया जाता था। साथ ही साइट पर सामान की फोटो भी अपलोड की जाती थी।एसएसपी ने बताया कि मार्केटिंग साइट पर फोटो देखने के बाद लोग ठगो से सम्पर्क करते थे जिसके बाद ठगो द्वारा उक्त फर्जी खातों में सामान की आधी रकम जमा करा ली जाती थी। जैसे ही पीड़ित उक्त खातों में रूपये जमा करता आरोपियों द्वारा उन रुपयों को निकाल कर खाते को बंद कर दिया जाता था। आरोपियों द्वारा कई राज्यों में इस तरह की ठगी की जा रही थी। 

एसएसपी लखनऊ दीपक कुमार ने बताया कि गिरफ्तार किये गए गिरोह के हर सदस्य को जिम्मेदारी मिली हुई थी। कोई लखनऊ में गिरोह को संचालित कर रहा था तो कोई दिल्ली में गिरोह को चला रहा था।आरोपी के कब्जे से पुलिस को 561 सिमकार्ड, 46 मोबाइल, 3 लैपटॉप, कंप्यूटर और लैपटॉप के अन्य उपकरण, नेटसेटर, चेकबुक, भारी संख्या में एटीएम / डेबिट कार्ड, स्टाम्प पेपर, आधार कार्ड, मुहर, और कई पासबुक के साथ ही एक कार भी बरामद की गई है। आरोपियों द्वारा लखनऊ के चिनहट समृद्धि भवन में इस गिरोह को संचालित किया जा रहा था। कुमार साहू, पुष्पेंद्र तिवारी, मनोज यादव, अवदेश कुमार यादव और आदित्य सिंह के आरोपियों की पहचान हुई है। ये सभी आरोपी अलग - अलग जगह के रहने वाले है। 

 

 

 (रिपोेर्ट कवि  तिवारी)

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी