पूर्व मुख्यमंत्री को मारने के लिए लूटी थी पुलिस से राईफल  

Foto

अपराध के समाचार, Crime News 

खालिस्तान लिबरेशन के तीन आतंकियों को शामली पुलिस ने किया गिरफ्तार

शामली पुलिस से लूटी गई इंसास राईफलें व एक पिस्टल बरामद

 

इकराम अली

शामली। पुलिस टीम पर हमला कर हथियार लूटने वाले आरोपी पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की जनसभा में हमला करना चाहते थे। घटना का खुलासा उस वक्त हुआ जब पुलिस ने तीन आरोपियों को मुठभेड़ के दौरान दबोच लिया। पकड़े गए आरोपीयो के आतंकी संगठन खालिस्तान लिबरेशन से भी लिंक सामने आ रहे हैं। पुलिस गिरफ्त में आये मुख्य आरोपी की फेसबुक पोस्ट से आतंकी संगठन से जुड़ी वीडियो वायरल की गई है। 

शामली पहुंचे मेरठ जोन के एडीजी प्रशांत कुमार ने पुलिस पिकेट पर हमला कर हथियार लूटने के मामले का खुलासा किया है। एडीजी प्रशांत कुमार सिंह ने बताया कि बदमाशों ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल की चुनावी रैली के दौरान आतंक फैलाने के मकसद से पुलिस पिकेट पर हमला कर हथियार लुटे थे। पुलिस ने मेरे बाद तीनों बदमाशों को गिरफ्तार कर घटना का राज फास किया है। पकड़े गए बदमाशों ने बताया कि उनके गैंग का सरगना फरार है।

घटना  खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट आतंकी संगठन से जुड़ी हुई है। पुलिस के मुताबिक पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल खालिस्तान लिबरेशन फ्रंट का विरोध करते हैं इसी मकसद से उन्हें टारगेट किया गया है। पकड़े गए बदमाशों का नाम बदमाश गुरजेंट ऊर्फ जिंटा, अमरजीत उर्फ अमृत के है खालिस्तान लिबरेशन से संबंध रखते हैं। जबकि ज्ञान का सरगना जर्मन अभी पुलिस पकड़ से दूर है। जिसकी गिरफ्तारी के लिए लगातार लगी हुई है।

एडीजी मेरठ जोन ने बताया कि गैंग बनाकर के यह लोग वारदात को अंजाम देते हैं, फिलहाल इस पूरे घटनाक्रम की जांच एटीएस को दी गई है, जांच के दौरान जो खुलासा होगा उसके आधार पर कार्रवाई की जाए। पुलिस ने पकड़े गए बदमाशों के कब्जे से लूटी गई पुलिस की दोनों इंसास राइफल और एक पिस्टल बरामद किया है। एडीजी ने घटना का खुलासा करने वाली पुलिस टीम को 50 हजार का इनाम दिया है।

 

यह भी पढ़ें: दसवीं की छात्रा को पिज्जा पार्टी का झांसा दे चार लोगो ने किया गैंगरेप 

यह भी पढ़ें: गरबा खेलने गई पत्नी जब दूसरे दिन घर लौटी तो पति के  होश 

यह भी पढ़ें: कश्मीरी छात्रों ने AMU छोड़ने की दी धमकी

 

 

 

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी