राष्ट्रपति ने भी नहीं दिखाई इस क्रूर हत्यारे पर दया...जानिए क्या है मामला

Foto

Crime News / अपराध समाचार / जुर्म


नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद संभालने के बाद पहली दया याचिका को खारिज कर दिया है। यह याचिका एक ही परिवार के सात लोगों को जलाकर मार डालने के मामले में फांसी की सजा पाये व्यक्ति की ओर से दया की अपील की थी।

एक ही परिवार के सात सदस्यों को मार डालना एक संज्ञेय अपराध मानते हुए राष्ट्रपति ने इसे खारिज कर दिया। घटना बिहार के वैशाली जिले की है जहा पर वर्ष 2006 में एक ही परिवार के सात लोगों की हत्या कर दी गई थी। दरअसल वैशाली जिले के राघोपुर में वर्ष 2005 में विजेंद्र महतो ने भैंस चोरी का मुकदमा दर्ज कराया था, इसमें जगत राय, वजीर राय और अजय राय को आरोपी बनाया था।

तीनों आरोपी विजेंद्र महतो से मुकदमा वापस लेने का दबाव बना रहे थे। मुकदमा वापस ने लेने पर आरोपियों ने विजेंद्र समेत उसके परिवार के सात लोगों को जिंदा जला कर मार डाला था। स्थानीय अदालत ने इस मामले में जगत राय को दोषी करार देते हुए फांसी की सजा सुनाई थी। जगत राय की यह सजा हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने भी बरकरार रखी थी। इसके बाद उसने राष्ट्रपति से दया की गुहार लगाई थी। 

 

 

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी