सपा के पूर्व सांसद के खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा 

Foto

क्राइम न्यूज़ ,अपराध समाचार 

 

बरेली। बरेली जिला पुलिस ने सपा के पूर्व सांसद वीरपाल सिंह यादव के खिलाफ भड़काऊ भाषण देकर माहौल बिगाड़ने के आरोप में मुकदमा  दर्ज किया गया  है। बिथरी चैनपुर थाना में तैनात दारोगा बृजपाल सिंह की तहरीर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मुनिराज ने यादव के खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दिया था। मंगलवार (25 सितंबर) की रात को यह मुकदमा दर्ज किया गया।

 

यह भी पढ़ें- दिव्या स्पंदना पर दर्ज हुआ देश द्रोह का मुकदमा 

 

बृजपाल सिंह ने कहा कि पिछले महीने बिथरी चैनपुर के उमरिया-खजुरिया गांव में कांवड़ यात्रा निकालने को लेकर हुए साम्प्रदायिक विवाद में एक समुदाय विशेष के 37 लोगों की गिरफ्तारी के बाद मंगलवार को उमरियां गांव पहुंचे पूर्व सांसद यादव ने बयान में कहा था कि देश में अमन-चैन कायम रखने के लिए अब सपा को ‘भोले’ और ‘राम’ से भिड़ना पड़ेगा।

 

यह भी पढ़ें- डॉक्टर को अस्पष्ट लिखना पड़ा भारी, हाईकोर्ट ने किया तलब

 

सिंह के अनुसार इलाके में गश्त के दौरान उन्हें यह भी पता लगा कि पूर्व सांसद ने कांवड़ियों पर टिप्पणी करते हुए उन्हें अपशब्द कहे थे। यादव के विवादित बयान का वीडियो वायरल होने के बाद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने उनके खिलाफ मामला दर्ज करने का आदेश दिया था। 


उल्लेखनीय है कि पिछले महीने कुछ लोगों ने परम्परा के विपरीत उमरिया गांव से कांवड़ यात्रा निकालने की कोशिश की थी, जिसे प्रशासन ने रोक दिया था. उमरिया के एक समुदाय के लोगों ने भी कांवड़ यात्रा निकाले जाने की कोशिश का उग्र विरोध किया था. इस मामले में बिथरी चैनपुर थाने में उमरिया के 250 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।

 

यह भी पढ़ें- ससुराल के बाहर धरने पर बैठी महिला

 

बता दें की 21 सितंबर को मुहर्रम के दिन खजुरिया के निवासी ग्रामीणों ने ताजिये के जुलूस का रास्ता बंद कर दिया था। इस मामले में पुलिस ने 16 लोगों को गिरफ्तार किया, जिन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया था। इसके विरोध में उमरिया गांव के लोगों की भीड़ ने उसी रात खजुरिया गांव पर धावा बोलने की कोशिश की थी और रास्ते में पुलिस पर हमला कर दिया था। इस मामले में दोनों पक्षों के 700 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था   इनमें से 100 नामजद हैं। इस प्रकरण में उमरिया के 41 और खजुरिया के 16 लोग जेल में हैं, जबकि सैकड़ों की गिरफ्तारियां होनी अभी बाकी हैं।

 

यह भी पढ़ें- BHU बवाल: 28 सितंबर तक विश्वविद्यालय में अवकाश घोषित

 

पुलिस अधीक्षक (नगर) अभिनन्दन सिंह का कहना है कि नामजद आरोपियों के खिलाफ उनके पास पर्याप्त साक्ष्य हैं। बहरहाल, गिरफ्तारी के डर से उमरिया और खजुरिया के पुरुष गांव छोड़कर भाग चुके है। 

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी