माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी का शव पैतृक गांव पहुंचा, परिवार में मचा कोहराम  

Foto

क्राइम/अपराध के समाचार

      हालात बिगड़ने की आशंका देख छावनी में तब्दील हुआ पूरा गांव 

 

लखनऊ। माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी का शव मंगलवार सुबह उनके पैतृक गांव पहुंच गया। उनके परिवार में कोहराम मचा हुआ है। परिवार के लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं हालात बिगड़ने की आशंका को देखते हुए पूरा गांव पुलिस छावनी में तब्दील हो गया है।

 

यह भी पढ़ें- इंसाफ की जंग आखिर जीत गई निर्भया

 

मुन्ना बजरंगी जौनपुर के सुरेरी थाना क्षेत्र के पूरे दयाल गांव का रहने वाला था। बता दें, पुलिस ने रविवार की सुबह मुन्ना बजरंगी को झांसी जेल से लेकर रात 9 बजे बागपत जेल में शिफ्ट किया था। बताया जा रहा है कि, सोमवार सुबह मुन्ना बजरंगी और सुनील राठी के बीच विवाद हुआ। इसके बाद ही सुनील राठी ने पिस्टल से ताबड़तोड़ गोलियां मार कर मुन्ना बजरंगी की हत्या कर दी। सूत्रों की माने तो मुन्ना को करीब 10 गोलियां मारी गई, जो कि उसकी कनपटी और सीने में लगी और मौके पर ही उसकी मौत हो गई।

 

यह भी पढ़ें- पुलिस की लापरवाही और लोगों की संवेदहीनता से गई सिपाही की जान...

 

मुन्ना बजरंगी पर 20 लोगों की हत्या का आरोप था। 1983 में लूट के बाद व्यापारी की हत्या के मामले में पहली बार उसका नाम सामने आया था और उसके बाद अपराध जगत में उसका नाम फैल गया था। यूपी एसटीएफ के साथ मुठभेड़ में गोली लगने से मुन्ना घायल भी हुआ था लेकिन फिर भी भागने में सफल रहा था।

इसके बाद व माफिया मुख्तार अंसारी के गैंग में शामिल हो गया था। 2005 में बनारस के बीजेपी नेता कृष्णानंद राय की हत्या में भी उसका नाम आया था। 2009 में मुन्ना बजरंगी ने मुम्बई में यूपी पुलिस के सामने आत्मसमर्पण किया था।

 

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी