उन्नाव में कप्तान के आदेश पर दर्ज हुआ  बलात्कार का मुकदमा

Foto

अपराध के समाचार, Crime News 

 

विनोद सोनकर
उन्नाव।
सरकार महिला सुरक्षा को लेकर के लाख कानून बना ले लेकिन महिलाओं की अस्मत लूटने वाले भूखे भेड़ियों की कमी नहीं है।  ऐसे दुराचारीयों को भली भांति मालूम है कि किस प्रकार से महिलाओं का शोषण करके उनकी इज्जत को तार-तार करके भी उनका बाल भी बांका नहीं हो सकता है। 

दुराचारीयों  को कहीं न कहीं नेता  जनप्रतिनिधियों का संरक्षण प्राप्त हो जाता है। उन्नाव जनपद के पुरवा कोतवाली इलाके के मंगत खेड़ा मझकोरिया में एक ऐसा ही मामला प्रकाश में आया जहां पर दलित युवती के साथ बलात्कार करने के बाद आरोपी पूरे परिवार को जान से मार देने की धमकी देता हुआ फरार हो गया।  

जब पीड़िता की मां को इस घटनाक्रम की भनक लगी तो तत्काल कोतवाली पुरवा  में शिकायत लेकर पहुंची लेकिन यह क्या यहां तो बलात्कारियों को बचाने के लिए ग्राम प्रधान से लेकर तथाकथित कुछ पत्रकार बल पूर्वक जबरन ही अनपढ़ शिकायतकर्ता से सादे कागज में अंगूठा लगवा लिए  और आश्वासन देते हैं कि जाओ इस को जेल भेज दिया जाएगा 

सादे कागज में सुलह समझौते का मजमून लिख दिया जाता है मामला तो उस समय जगजाहिर हो गया जब बलात्कारी खुले आसमान के नीचे निर्दुन्द घूमने लगा और घूम घूम कर यह कहने लगा कि मेरा क्या बिगाड़ लिया ऐसे में पीड़िता  हताश होकर  न्यायप्रिय पुलिस अधीक्षक हरीश कुमार की चौखट में फरियाद लगाई। 

पूरा मामला संज्ञान में लेते ही एसपी महोदय ने तत्काल कोतवाली पुरवा को आदेश दिया  कि मुकदमा लिख कर दोषियों के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही को अंजाम दिया जाए अब सबसे बड़ा प्रश्न तो यह खड़ा होता है पत्रकारिता की भीड़ में अपराध और अपराधियों को संरक्षण देने का कार्य तथा कथित पत्रकार कर रहे हैं समय रहते कलम के सिपाहियों को बदनाम करने वाले पत्रकारो को चोला ओढ़ कर घिनौनी हरकत को अंजाम देने वाले कथित पत्रकार को भी पवित्र पेशे को बदनाम करने से बचना चाहिए ।

यह भी पढ़ें: कलयुगी बेटे ने बुजुर्ग बीमार मां को कमरे में किया बन्द  हुई मौत  

यह भी पढ़ें: तीसरी कक्षा की छात्रा से  चार हैवानो ने किया गैंगरेप 

leave a reply

क्राइम-अपराध 

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी