T.R.C महाविद्यालय के ठेंगे पर एडीएम का आदेश, कर रहा अवैध वसूली

Foto

Education news/शिक्षा के समाचार 

बलराम सिंह

बाराबंकी। उच्च शिक्षा संस्थानों की मनमानी से परेशान बी फार्मा के छात्र छात्राएं कॉलेज के काले कारनामों के कारण परेशान हैं। एडीएम के कहने के बावजूद यहां स्थित  टी.आर.सी महाविद्यालय ने परीक्षा केन्द्र से छात्रों को भगा दिया। शिक्षण ​संस्थान मानों शिक्षा का मंदिर नहीं माफियाओं का घर हों। प्रशासनिक आदेशों और निर्देशों को भी अपनी जेब में रख रहे हैं। वहीं, जिला प्रशासन मूक दर्शक बना हुआ है। ऐसे कॉलेजों की परीक्षाओं पर रोक लगाने के साथ ही मान्यता खत्म करने की कार्रवाई होनी चाहिए। हालांकि, अब देखने वाली बात है कि एडीएम के आदेश को चुनौती देने के बाद और छात्रों का भविष्य खराब करने वाले इस महाविद्यालय पर कोई कार्रवाई होती है या नहीं।

 

बाराबंकी में उच्चशिक्षा संस्थानों के मनमानी से छात्र-छात्राएं परेशान हैं। मनमानी फीस और मोटी रकम लेने के बावजूद छात्रों का उत्पीड़न जारी है। बाराबंकी जिला अधिकारी कार्यालय पर बी फार्मा के छात्र-छात्राओं ने प्रदर्शन किया और डीएम से कॉलेज प्रशासन के खिलाफ कार्यवाही की मांग की। मामला सतरिख थाना क्षेत्र के टी.आर.सी महाविद्यालय का है। जहां बी.फार्मा दूसरे सेमेस्टर के दर्जनों छात्रो का आरोप है कि उनसे फीस के नाम पर कालेज प्रशासन अवैध वसूली की जा रही है।

 

छात्रों का आरोप है कि अधिक फीस नहीं देने पर शहर से सटे सागर इंजीनियरिंग कॉलेज स्थित परीक्षा केंद्र से बाहर कर दिया गया। जबकि छात्रों ने अपनी फीस पहले ही जमा कर रखी है और फीस बढ़ा कर वसूलने के आरोप लगा रहे है। छात्रों के प्रदर्शन के दौरान एडीएम संदीप गुप्ता मौके पर पहुंच कर छात्र छात्राओं के सामने कॉलेज प्रशासन को फोन किया और रुतबे से कहा कि तत्काल इन छात्रों की परीक्षा करवाई जाए।

एडीएम के आश्वासन के बाद छात्र छात्राएं दुबारा परीक्षा केंद्र सागर कॉलेज जाते हैं। लेकिन उन्हें अवैध वसूली की रकम न देने पर कालेज से भगा दिया जाता है। एडीएम के कहने के बावजूद कालेज प्रशासन कोई बात नहीं सुनता। ऐसे में ये छात्र अपने का भविष्य को लेकर चिंतित है और दुबारा डीएम कार्यालय पर धरना शुरू कर दिया है।

 

यह भी पढ़ें:बहुत अर्से बाद छात्राओं से आगे निकले छात्र

यह भी पढ़ें:CBSE बोर्ड: कृति वालिया ने 97.6 फीसदी अंक हासिल कर बढ़ाया राजधानी का मान

leave a reply

शिक्षा

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी