डीयू के इस निर्णय पर मानव संसाधन मंत्री ने लगाया विराम, पुराने पैटर्न से होगी परीक्षा

Foto

शिक्षा के समाचार/Education News


नई दिल्ली। दिल्ली यूनिवर्सिटी ने इस बार एडमिशन को लेकर नियमों में बड़ा बदलाव किया था। जिसमें यदि आप इंटरमीडिएट पास कर चुके हैं, तो डीयू में प्रवेश लेने के लिए अब एंट्रेंस परीक्षा कराने का मन विवि ने बना लिया था। लेकिन इस बीच केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बयान जारी कर कहा कि पुराने पैटर्न पर ही एडमिशन कराया जाएगा। डीयू में एडमिशन के लिए कोई एग्जाम नहीं कराई जाएगी। 

 


यहां भी विरोध


बता दें कि इस तरह कि खबरें पहले भी आ रही थी कि डीयू में एंट्रेंस  परीक्षा आयोजित कराने को लेकर डीयू टीचर्स एसोसिएशन ने भी विरोध किया था। वहीं, अब खबर यह भी है कि एसोसिएशन के अध्यक्ष राजीब राय ने कहा, डीयू सेंट्रल विश्वविद्यालय है। ऐसे में इसके द्वारा जो भी निर्णय लिया जा रहा, उन प्रक्रियाओं का पालन होना चाहिए। इस पर  फैसला ना ही वाइस चांसलर और ना ही एचआरडी 'एंट्रेंस एग्जाम' को लेकर निर्णय कर सकते हैं।


क्या है मामला


बताते चलें कि डीयू ने शैक्षणिक सत्र में सभी परास्तनातक, एमफिल, पीएचडी कोर्सेस सहित 8 कोर्सों में ऑनलाइन प्रवेश परीक्षा लागू किया था। इस बाद डीयू परीक्षा का दायरा बढ़ाने पर भी विचार कर रहा है। इस विषय पर डीयू ने विशेषज्ञों से सुझाव भी मांगे थे। विवि का मानना है कि इससे एडमिशन प्रक्रिया और भी पारदर्शी बनेगी। ऑनलाइन परीक्षा से उन छात्रों को भी मौका मिल सकेगा जो अच्छे नंबरों से 12वीं की परीक्षा पास नहीं कर पाते हैं। 

 

 

एजेंसी का चयन

 

बताते चलें कि पिछले साल से ही यह उम्मीद जताई जा रही थी कि कॉमर्स के लिए एडमिशन को लेकर प्रवेश परीक्षा हो सकती है। लेकिन एडमिशन लेने वाली सदस्यीय टीम ने इस विषय पर अपनी असहमति जताई। अब यह चर्चा तेज हो गई है कि ऑफलाइन के साथ ही ऑनलाइन परीक्षा भी कराई जा सकती है। इन सब बातों के साथ ही यह भी देखा जा रहा है कि परीक्षा की जिम्मेदारी किस एजेंसी को दिया जाएगा। फिलाहल नेश्नल टेस्टिंग एजेंसी के माध्यम से परीक्षा कराए जाने की बात सामने आ रही है। 


आ रही ये समस्याएं

 

बताते चलें कि  ऑनलाइन परीक्षा कराए जाने को लेकर यह भी समस्या आ रही है कि जो छात्र कंप्यूटर से काफी दूर होंगे उनके लिए मुसीबत बढ़ जाएगी। वहीं, परीक्षा को लेकर विवि प्रशासन का खर्च भी बढ़ेगा। फिलहाल जनवरी तक इस महत्वपूर्ण फैसले पर निर्णय कर लिए जाने की संभावना है। गौरतलब है कि जेएनयू में भी 2019 से ऑनलाइन परीक्षा आयोजित कराई जाएगी। फिलहाल अब केन्द्रीय मान संसाधन मंत्री प्रकाश जावेडर के बयान के बाद डीयू में एडमिशन के लिए एंट्रेंस परीक्षा आयोजित होगी या नहीं इस पर विकराम लग गया है।

 

यह भी पढ़ें...छात्रों का ब्यौरा अपलोड करने में लापरवाही बरत रहे ये कॉलेज

 

यह भी पढ़ें...सीबीएसई में दाखिले को अब नहीं होगा भटकना

leave a reply

शिक्षा

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी