एनसीईआरटी किताब मौजूद फिर भी शिक्षक निजी प्रकाशक की पढ़ा रहे हैं, किताबें

Foto

 

Education/शिक्षा

लखनऊ। माध्यमिक विद्यालयों में एनसीईआरटी किताबों से ही पढ़ाई कराए जाने की सख्त निर्देश हैं। पर सबसे बड़ी बात यह है कि विद्यार्थियों के बैग में एनसीईआरटी किताबें मौजूद हैं लेकिन फिर भी शिक्षक निजी प्रकाशक की किताब से पढ़ा रहे हैं। यह बात तब सामने आई जब अफसरों ने विद्यालय में जाकर निरीक्षण किया।

डीआईओएस डॉ धर्मेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि हीरा लाल बारह सैनी इंटर कॉलेज में निरीक्षण किया।कक्षा 12 वीं में प्रवक्ता चंद्रप्रकाश रसायन विज्ञान विषय पढ़ा रहे थे। मगर किताब एनसीईआरटी के बजाय किसी अन्य प्रकाशक की थी। विद्यार्थियों से पूछा गया तो उनके बैग में एनसीईआरटी की किताबें मौजूद थीं। एनसीईआरटी किताबों के पांच प्रकाशक भी तय किए गए हैं।

बताया जा रहा है कि शैक्षिक पंचांग के अनुरूप पढ़ाई नहीं कराई जा रही थी। प्रवक्ता को कारण बताओ नोटिस जारी कराया जा रहा है,संतोषजनक जवाब ना मिलने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।चंपा अग्रवाल कन्या इंटर कॉलेज में कक्षा 5 में कोई शिक्षिका उपस्थित नहीं थी।

प्रधानाचार्य को शिक्षिका की वैकल्पिक व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए। गोपी राम पालीवाल इंटर कॉलेज में छात्र संख्या कम मिली। छात्र संख्या बढ़ाने के निर्देश प्रधानाचार्य को दिए।डीआईओएस ने बताया कि किसी भी विद्यालय में बिना एनसीईआरटी किताबों के पठन- पाठन कराया जाएगा तो कार्रवाई भी की जाएगी।  

यह भी पढ़ें  अमेजन कंपनी को करोड़ों रुपये का चूना लगाने वाले 4 आरोपी गिरफ्तार     

यह भी पढ़ें   दिल्ली से आगे चेन्नई की बड़ी चुनौती 

leave a reply

शिक्षा

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी