loader

#MeToo कैंपेन से जुड़ी ज्वाला गुट्टा, ट्वीट कर बताई पूरी दास्तां

Foto

Sports News / खेल समाचार

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर एक कैंपेन चल रहा है #MeToo जिसके चंगुल में इस वक्त बड़े-बड़े नेता और अभिनेता फंस चुके हैं। अब #MeToo कैंपेन राजनीति और बॉलीवुड से निकल कर खेल जगत में जा पहुंचा है। बैडमिंटन खिलाड़ी ज्वाला गुट्टा भी इस कैंपेन का हिस्सा बनी। उन्होंने सोशल मीडिया पर अपना अनुभव शेयर किया। 

महिला डबल्‍स में विश्व चैंपियनशिप की पूर्व कांस्य पदक विजेता ज्वाला गुट्टा ने ट्वीट के ज़रिये अपना एक्सपीरियंस शेयर किया। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट्स कर बताया कि सेक्सुअल हैरासमेंट का तो नहीं लेकिन मेंटल हैरासमेंट का शिकार ज़रूर होना पड़ा। उन्होंने बताया कि उनके साथ सलेक्शन में किस तरह का भेदभाव किया गया। हालांकि ज्वाला ने इस दौरान किसी का भी नाम नहीं लिया।

यह भी पढ़ें: विराट की चाहत इंटरनेशनल टूर पर वाइफ हो साथ, लेकिन BCCI नहीं तैयार

अपने अनुभवों को साझा करते हुए ज्वाला ने लिखा, '2006 में इस व्यक्ति के प्रमुख बनने के बाद, राष्ट्रीय चैंपियन होने के बावजूद, मुझे राष्ट्रीय टीम से बाहर कर दिया गया।' उन्होंने बताया कि सबसे नया मामला तब का है जब ज्वाला रियो से लौटी और उन्हें राष्ट्रीय टीम से बाहर कर दिया गया। आगे उन्होंने बताया कि जब उस व्यक्ति ने ज्वाला के पार्टनर को भी हैरेस किया। 

ज्वाला गुट्टा का लंबे समय से राष्ट्रीय बैडमिंटन टीम के कोच पुलेला गोपीचंद के साथ मतभेद रहे हैं। इस दौरान ज्वाला ने यह आरोप भी लगाया कि गोपीचंद का ध्यान पूरी तरह से एकल खिलाड़ियों पर रहता था। वो युगल खिलाड़ियों की अनदेखी करते हैं। ज्वाला ने यह भी दावा किया​ कि गोपीचंद की आलोचना की वजह से उन्हें राष्ट्रीय टीम में उनकी अनदेखी हुई। यहां तक कि उन्होंने अपना डबल्स जोड़ीदार तक गंवा दिया। 

यह भी पढ़ें: साइना नेहवाल करने जा रही है शादी, बैडमिंटन कोर्ट से ही चुना अपना हमसफ़र

leave a reply

खेल

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी