एमएमयू के द्वारा बड़ी संख्या में लोगों तक पंहुच रहा है उपचार:सीएमओ

Foto

स्वास्थ्य के समाचार/ Health news

 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के 53 जिलों में शुरु हुई सचल चिकित्सा इकाई के द्वारा मई माह तक 315325 ग्रामीणों को उपचार उपलब्ध कराया जा चुका वहीं एमएमयू मे मौजूद अनुभवी चिकित्सकों के परामर्श पर 38772 मरीजों का निशुल्क लैब टेस्ट किया गया है। लखनऊ में 8327 मरीजों तक उपचार पंहुचाया गया है और यहां पर 1266 मरीजों का लैब टेस्ट किया गया है। 

लखनऊ में सचल चिकित्सा इकाई काफी अच्छा कार्य कर रही है और अब तक कई कस्बों के दर्जनों गांवों में इसके द्वारा ग्रामीणों को उपचार उपलब्ध कराया जा चुका है। लखनऊ में इस समय दो एमएमयू वैन काम कर रही हैं और दो एमएमयू और जुड़नी हैं जिनके आने के बाद एक बड़ा क्षेत्र कवर हो जायेगा। उक्त विचार लखनऊ के सीएमओ डा. नरेंद्र अग्रवाल ने व्यक्त किये।

लखनऊ के मुख्य चिकित्साधिकारी डा.नरेंद्र अग्रवाल ने सचल चिकित्सा इकाई,एमएमयू के बारे में बातचीत में बताया कि हालाकि लखनऊ में अधिकतर क्षेत्रों में स्वास्थ्य केंद्र हैं जहां पर लोगों को उपचार उपलब्ध कराया जाता है पर ग्रामीण क्षेत्र जहां पर लोगों को उपचार के लिए अपने घर से काफी दूर जाना पड़ता है ऐसे स्थानों को चिन्हित कर वहां पर सचल चिकित इकाई के जरिये ग्रामीणों को उपचार की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है।

सीएमओ ने बताया कि वर्तमान समय में लखनऊ में दो एमएमयू काम कर रही हैं जिसके द्वारा अब तक काकोरी, इटौंजा, बीकेटी, सरोजनी नगर, माल व नगराम समेंत कई कस्बों के दर्जनों गांवों में आठ हजार से अधिक लोगों तक उपचार पंहुचाया गया है और 1266 लोगों का निशुल्क लैब टेस्ट किया जा चुका है। सीएमओ ने कहा कि एमएमयू पर उपचार के लिए आ रहे लोगों को वहीं पर निशुल्क दवाएं भी उपलब्ध करायीं जा रहीं हैं। सीएमओ ने कहा कि एमएमयू सेवा मे लखनऊ को चार वैन मिलनी हैं बाकी दो और वैन आने के बाद हम और भी अच्छे तरीके से अधिक से अधिक लोगों को उनके घर के पास उपचार उपलब्ध करा सकेंगे। मरीजों के बारे में सीएमओ ने कहा कि प्रतिदिन 60 से 70 मरीजों को एमएमयू की टीम के द्वारा उपचार उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होने कहा कि वे खुद भी इसकी मानीटरिंग करते हैं।

 

यह भी पढ़ें-कासगंज: चेचक से बेहाल ग्रामीण, प्रशासन बेखबर

यह भी पढ़ें-इन चीजों का भूलकर भी न करें सेवन, हो सकता है ब्रेन ट्यूमर

 

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी