बदलते मौसम में बढ़ जाता है अस्थमा रोगियों को खतरा:प्रो.सूर्यकांत

Foto

स्वास्थ्य के समाचार/health news

लखनऊ। बदलते मौसम में अस्थमा सांस के रोगियों की समस्या बढ़ जाती है लिहाजा इससे बचने के लिए जागरुकता जरुरी है इसी को लेकर सिपला कंपनी के द्वारा यूपी के कई जिलों में जागरुकता कार्यक्रम चलाया जायेगा साथ ही प्रभावित लोगों को दवाओं व इनेहलर का वितरण भी किया जायेगा। उक्त जानकारी केजीएमयू के पल्मोनरी विभाग के एचओडी प्रो.सूर्यकांत ने व्यक्त किये।

प्रेसिडेंट इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के तत्वाधान में प्रस क्लब में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस को सम्बोधित करते हुए प्रो.सूर्यकांत ने कहा कि आज प्रेस वार्ता का उद्देश अस्थमा से प्रभावित हो रहे भारत के 9 करोड़ 35 लाख लोगों को जागरूक करना और अस्थमा की रोकथाम और उसके विषय में फैली भ्रामक विसंगतियों को दूर करना था।

डॉ सूर्यकांत ने बताया कि हर साल की तरह इस साल भी अस्थमा की 'बेरोक जिंदगी यात्रा' का आयोजन करवा रहे हैं जो पूर्वी उत्तर प्रदेश में लखनऊ, बाराबंकी ,कानपुर ,प्रयागराज बनारस ,गोरखपुर में लोगों को अस्थमा के बारे में जागरुक करना तथा इनहेलर का प्रयोग कर अस्थमा को रोके जाने के उपाय को जन-जन तक पहुंचाना है।

डॉक्टर सूर्यकांत ने बताया जीडीबी ग्लोबल डिजीज बर्थ डेट 2018 के अनुसार उत्तर प्रदेश का स्थान अस्थमा प्रसार और मृत्यु दर में अन्य राज्यों की अपेक्षा पहले नंबर पर है। बदल रहा पर्यावरण और प्रदूषण भी एक बड़ा मुख्य कारण है जो अस्थमा रोगियों में खासी बढ़ोतरी कर रहा है।

ब्रिथ फ्री हेल्थ केयर प्रोफेशनल की मदद से सिपला द्वारा की जा रही पब्लिक सर्विस है जिसका मुख्य उद्देश्य लोगों को अस्थमा और सांस जुड़ी बीमारियों के प्रति जागरूक करना है।

यह भी पढ़ें:   टेली मेडिसिन से अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति  तक पंहुचेगी बेहतर चिकित्सा...

यह भी पढ़ें:    रोजना इस्तेमाल करना चाहिए विटामिन ई कैप्सूल, जाने इसके फायदे 

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी