loader

ब्रेकफास्ट में मीठा खाना है जरूरी, जाने क्यों..

Foto

Health news/स्वास्थ्य के समाचार

 

हममें से अधिकतर लोग खाने के बाद कुछ मीठा खाना पसंद करते हैं ताकि उसका स्वाद देर तक मुंह में बना रहे। इतना ही नहीं बचपन से ही हमें यह सिखाया जाता है कि हमें अपना खाना पूरा फिनिश करना चाहिए और आखिर में कुछ मीठा खाना चाहिए। यहां तक की ज्यादातर रेस्तरां और ईटिंग आउटलेट्स के मेन्यू में भी डिजर्ट यानी मीठा सबसे आखिर में होता है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं मीठे से जुड़ी एक अहम बात..

 

यह भी पढ़ें- ये लक्षण दिखें तो हो जाएं सावधान, हो सकती है डायबीटीज

 

मीठा खाकर करें दिन की शुरुआत 
जी हां, और वो अहम बात यह है कि आपको अपने दिन की शुरुआत कुछ मीठा खाकर करनी चाहिए। आयुर्वेद की मानें तो यह बेहद जरूरी है कि हम सुबह-सुबह अपने दिन की शुरुआत मीठी चीजों से करें, लेकिन इस बात का भी ध्यान रखें कि आप ब्रेकफास्ट में जो खा रहे हों उसमें नेचरल शुगर हो और उसका ग्लाइसिमिक इंडेक्स कम होना चाहिए। ग्लाइसीमिक इंडेक्स वह आंकड़ा है जो यह दर्शाता है कि कोई भी खाद्य पदार्थ कितनी जल्दी या धीरे-धीरे शरीर में ग्लूकोज लेवल को बढ़ाता है। यानी ब्रेकफस्ट में आपको ऐसी चीजें खानी चाहिए जो शरीर में ग्लूकोज के लेवल को तेजी से न बढ़ाएं। 

 

यह भी पढ़ें- युवाओं के लिए महंगा पड़ सकता है कोल्ड ड्रिंक का शौक


ब्रेकफास्ट में क्यों खाएं मीठा 
आपको ब्रेकफस्ट में मीठा क्यों खाना चाहिए इसकी वजह यह है कि यह शरीर को तुरंत एनर्जी देने के साथ ही ग्लूकोज का रिलीज भी धीरे-धीरे करता है जिससे हमारा शरीर पूरे दिन ऐक्टिव रहता है और एनर्जी की कमी महसूस नहीं होती। रात में डिनर करने के बाद आपका शरीर लंबे समय तक भूखा रहता है। ऐसे में ब्रेकफस्ट में अगर आप कुछ मीठा खाएं तो तो शरीर को संपूर्णता का एहसास होता है। 

इसलिए जरूरी है ब्रेकफास्ट 
आयुर्वेद की मानें तो खाना खाना प्रकृति से ऊर्जा लेने की प्रक्रिया है। जब आपको शरीर में एनर्जी की कमी महसूस हो रही होती है तो हम भौतिक चीजों के प्रति आकर्षित हो जाते हैं जिनकी हमें उस वक्त जरूरत भी नहीं होती। उदाहरण के लिए कोई ड्रेस खरीद लेना या फिर बेवजह की शॉपिंग कर लेना आदि। लिहाजा खुद को जल्दबादी में इस तरह के अविवेकपूर्ण निर्णय लेने से रोकने के लिए बेहद जरूरी है कि आप हर दिन सुबह ब्रेकफस्ट करें ताकि शरीर में एनर्जी की कमी न हो और आप कोई भी निर्णय सोच समझकर ले पाएं। 

 

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी