मरीजों पर भारी पड़ रही डॉक्टरों की ग्रीष्मकालीन छुट्टियां

Foto

Health news / स्वास्थ के समाचार


पीजीआई से लेकर केजीएमयू तक में मरीजों को हो रही दिक्कतें, आपीडी भी प्रभावित


लखनऊ। राजधानी में सरकारी अस्पतालों में आधे से ज्यादा डॉक्टर छुट्टी पर हैं। इसके चलते चिकित्सा व्यवस्था चरमरा गई है। अस्पतालों में भर्ती मरीजों को तो दिक्कतों को सामना करना ही पड़ रहा है साथ ही ओपीडी के भी हाल बुरे हैं। दरअसल सरकारी अस्पतालों के 50 फीसदी से ज्यादा चिकित्सक 15 मई से 15 जुलाई तक एक माह की ग्रीष्मकालीन अवकाश पर चले गए हैं।

इसके चलते पीजीआई से लेकर केजीएमयू तक में मरीजों की दिक्कते बढ़ गई हैं। ओपीडी में भी चिकित्सकों की कमी के चलते मरीज परेशानी झेल रहे हैं। बता दें केजीएमयू में 150 डॉक्टर अवकाश पर हैं तो पीजीआई में 100, लोहिया में 75 चि​कित्सक छुट्टी पर हैं।

इस समय पड़ रही तेज गर्मी और दिन रात के मौसम के बदलाव के कारण मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। ऐसे में चिकित्सकों के ग्रीष्म अवकाश में जाने के कारण समस्या और बढ़ गई है। वहीं मरीजों को कहना है कि इसके लिए राज्य सरकार को कोई नियम—कायदा तय किया जाना चाहिए। चिकित्सकों को इस प्रकार से छ्ट्टी दी जानी चाहिए जिससे चिकित्सा व्यवस्था पर असर न पड़े और मरीजों को उपचार भी सुलभ हो सके। 

 

 

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी