नवजात के लिए अमृत है मां का दूध: डॉ.सलमान

Foto

स्वास्थ्य के समाचार/health news

नवजात शिशु देखभाल सप्ताह के तहत जिलास्तरीय कार्यशाला आयोजित

लखनऊ। नवजात शिशु देखभाल सप्ताह के तहत शनिवार को मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय के सभागार में जिला स्तरीय कार्यशाला आयोजित हुई। बलरामपुर अस्पताल के बाल रोग विशेषज्ञ व कार्यशाला के मास्टर ट्रेनर डॉ. सलमान ने कहा कि नवजात के लिए मां का दूध अमृत समान होता है, जन्म के पहले घंटे में मां का पीला गाढ़ा दूध नवजात को कई तरह की बीमारियों से बचाने का काम करता है।

इसके साथ ही बच्चे को छह माह तक मां के दूध के अलावा कुछ और नहीं देना चाहिए, छह माह बाद बच्चे को विकास के लिए मां के दूध के साथ हल्का पूरक आहार भी देना चाहिए।

कार्यशाला की अध्यक्षता मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेंद्र अग्रवाल ने की, इस अवसर पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी (आरसीएच) डॉ.अजय राजा व अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। बता दें कि पूरे प्रदेश में 14 से 21 नवम्बर तक नवजात शिशु देखभाल सप्ताह मनाया जा रहा है।

कार्यशाला में उपस्थित जिले के सभी प्राथमिक व सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के प्रभारी, ब्लॉक कम्युनिटी प्रोसेस मैनेजर, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी व अन्य विभागों के लोगों को संबोधित करते हुए डॉ. सलमान ने कहा कि नवजात की जान बचाना हम सभी का परम कर्तव्य है इसके लिए उन्होंने जरुरी टिप्स भी दिए।

उन्होंने बताया कि बच्चे को अस्पताल से तब तक डिस्चार्ज नहीं करना चाहिए जब तक की वह भलीभांति मां का दूध न पीने लगे। इसके अलावा उन्होंने कई अन्य जरुरी उपाय भी बताये जो की नवजात को लम्बी उम्र देने के लिए बहुत ही जरुरी हैं, जैसे- नवजात को तुरंत नहलाएं नहीं, शरीर पोंछकर नर्म साफ़ कपड़े पहनाएं, जन्म के तुरंत बाद नवजात का वजन लें और जरुरी इंजेक्शन लगवाएं, नियमित और सम्पूर्ण टीकाकरण कराएं, नवजात की नाभि सूखी और साफ़ रखें और संक्रमण से बचाएं, मां और शिशु की व्यक्तिगत स्वच्छता पर भी ध्यान दें, कम वजन और समय से पहले जन्में शिशुओं पर खास ध्यान दें। 

यह भी पढ़ें:    मधुमेह रोगियों के लिए  तीन-चार कप काफी है फायदे मंद, जाने कैसे

यह भी पढ़ें:     आरएमएल संस्थान को मिली ये मशीने,उपचार में मिलेगी राहत

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी