साकार होती दिख रही है घरों तक स्वास्थ्य सेवाएं पंहुचाने की योजना:डीजी हेल्थ

Foto

स्वास्थ्य के समाचार/health news

लखनऊ। मोबाईल मेडिकल यूनिट एमएमयू का शुरुआती रिस्पांस ठीक देखने को मिल रहा है,जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में इससे लोगों तक उपचार पंहुच रहा है,55 जिलों में 170 एमएमयू के द्वारा स्वास्थ्य सेवाएं लोगों के घरों तक पंहुचाने का प्रयास साकार होता दिख रहा है। आगे चलकर इसे सभी जिलों में करने पर विचार किया जा सकता है। उक्त विचार प्रदेश के स्वास्थ्य महानिदेशक डा. पद्माकर सिंह ने एम न्यूज के साथ विषेष बातचीत में व्यक्त किये।

फरवरी माह में सीएम योगी आदित्यनाथ के द्वारा झण्डी दिखाकर शुरु की गयी मोबाईल मेडिकल यूनिट एक माह के भीतर ही लोगों तक अपनी पंहुच बना चुकी है। प्रदेश के विभिन्न मण्डलों के जिलों में अब तक 72 एमएमयू सक्रिय हो चुकीं हैं और अप्रैल माह के अंत तक 170 एमएमयू को सक्रिय कर देने की कवायद जारी है।

लखनऊ,वाराणसी,बलिया,आजमगढ़,फैजाबाद समेंत तमाम जिलों से जानकारी करने पर ग्रामीणों के द्वारा सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली। लोगों का कहना है कि आज भी ग्रामीण क्षेत्रों में बहुत से ऐसे क्षेत्र हैं जहां पर प्राथमिक उपचार के लिए भी मरीजों को अपने घरों से काफी दूर जाना पड़ता है उनके लिए उपचार पाना भी काफी टेड़ी खीर प्रतीत होता था पर अब एमएमयू की शुरुआत ने इन क्षेत्रों के मरीजों के लिए बड़ी राहत का काम किया है।

ग्रामीणों का कहना है कि पहले सुना था कि ऐसा होगा तो विश्वास नही हुआ था पर अब जब एमएमयू दरवाजे पर आयी और उसमें डाक्टर,जांच और दवा सब कुछ पूरी तरह से मुफ्त मिला तो लगा कि ये संभव है।

एमएमयू को लेकर प्रदेश के स्वास्थ्य महानिदेशक डा. पद्माकर सिंह से बात की गयी तो उन्होने कहा कि इसका पूरा ब्यौरा तो एनएचएम के द्वारा ही उपलब्ध होगा पर प्रथामिक  जानकारी जो आ रही है उससे तो लग रहा है कि इससे बड़ी संक्ष्या में ग्रामीणों तक उपचार पंहुच रहा है और लोगों को उपचार के लिए दौड़ना नही पड़ रहा है।

डीजी हेल्थ ने कहा कि शासन ने 55 जिलों में इसकी शुरुआत की है और 170 एमएमयू के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ पंहुचाने का प्रयास किया जा रहा है। जब उनसे पूछा गया कि क्या आगे इसे प्रदेश के हर जिले में शुरु किया जायेगा तो उन्होने कहा कि अभी तो 55 जिलों में ही इसका संचालन किया जायेगा और आगे आवाश्यकता अनुसार शासन इस पर निर्णय लेगा।

प्रदेश में एमएमयू का संचालन कर रही केएचजी हेल्थ सर्विसेज के सीईओ जितेंद्र वालिया ने बताया कि प्रदेश के तमाम जिलों में 72 एमएमयू ने काम करना शुरु कर दिश है और अप्रैल माह के अंत तक सभी 170 एमएमयू के कार्य शुरु कर देने की संभावना है। उन्होने कहा कि इससे अब तक 55000 मरीज लाभाविन्तत हो चुके हैं और काफी संख्या में मरीजों का लैब टेस्ट भी एमएमयू के स्टाफ के द्वारा किया जा चुका है। उन्होने कहा कि उनका उद्देश्य ग्रामीणों तक इस सेवा का लोभ पंहुचाना है। 

यह भी पढ़ें:   उत्तर प्रदेश में  बढ़ रही है बालिकाओं की संख्या:डा.घई

यह भी पढ़ें:   ऐसे रखे अपनी आंखो का ख्याल, जिंदगी भर देगी साथ 

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी