massiar-banner

सरकार की साख पर लगा रहे बट्टा, डाक्टरों के ठेंगे पर सीएम के वादे

Foto

स्वास्थ्य के समाचार/ HEALTH NEWS

आयुष्मान और विकलांग कार्ड होने के बाद भी नहीं मिल पा रहा ईलाज
मंत्री का पत्र भी नहीं आया काम

 

लखनऊ। यूपी सरकार जहां एक तरफ सरकारी अस्पतालों में अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने का दावा और वादा कर रही है, वहीं सरकारी अस्पताल ही सरकार की इस मुहिम को ठेंगा दिखाते नजर आ रहे हैं। ऐसी ही घटनाएं ट्रामा सेंटर में लगातार देखने को मिल रही हैं। बीती रात शाहजहांपुर से आए हुए एक युवक के पास आयुषमान कार्ड होने के बावजूद उसका इलाज करने से इनकार कर दिया गया। जिसके बाद शाहजहांपुर के भाजपा विधायक रोशन लाल को इस पूरे मामले में दखल देना पड़ा।

 

 

 

 

 

ट्रामा सेंटर की यह कोई पहली घटना नहीं है। शाहजहांपुर से ही आए एक विकलांग बच्चे का परिवार ट्रामा सेंटर में इलाज के लिए पहुंचा, जिसके पास विकलांग कार्ड होने के साथ ही योगी सरकार के मंत्री सुरेश खन्ना का लेटरपैड पर लिखा खत भी था, इसके बाद भी लापरवाह डाक्टरों ने उसका इलाज करने से साफ मना कर दिया।

 

यह भी पढ़ें- प्रसूता के लिए भगवान बनी सिविल अस्पताल की डाक्टर

 

जिसके बाद से लगातार परिजन अपने बच्चे को लेकर पूरे अस्पताल के चक्कर काट रहे हैं। पीड़ित परिवार ने बताया कि उनके पास मौजूद सभी दस्तावेजों को डॉक्टरों ने दरकिनार कर दिया, साथ ही कहा कि पैसा खर्च करो और इलाज कराओ। ऐसे में अब देखना यह है कि शासन और प्रशासन किस तरह ऐसे लापरवाह डॉक्टरों पर कार्रवाई करता है और गरीबों और विकलांगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया करवाता है।

 

ऐसा ही एक मामला  ट्रामा सेंटर में देखने को मिला जहां पर गोरखपुर जिला अस्पताल से रेफर कर भेजे गए एक बुजुर्ग व उनके परिजनों को पूरे ट्रामा सेंटर के दर्जनों चक्कर लगवाए गए। आधा दर्जन से अधिक जांच कराई गई फिर भी डॉक्टरों ने उनका कोई इलाज नहीं किया। परेशान और निराश होकर बुजुर्ग के साथ उनके परिजन ट्रामा सेंटर गेट के बाहर मरीज को स्ट्रेचर पर तड़पता हुआ देखकर मायूस हो रहे हैं। परिजनों का आरोप है कि पछले 4 घंटे से डॉक्टरों के द्वारा जो जांच कराने के लिए बोला गया और जहां पैसे जमा करने के लिए बोला गया वह सब कुछ करने के बाद फिर भी उनके पिता को अभी तक इलाज नहीं मिला है। सरकार सबका साथ सबका विकास की बात करती नजर आती है वास्तविकता कुछ और ही नजर आ रही है। पीड़ित परिवार ने इस पूरे मामले में सीएम योगी आदित्यनाथ से मदद की गुहार की है।  


 

 

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी