massiar-banner

टीकारण के लक्ष्य में पिछड़े जिलों की अब बेहतर है स्थिति: रीता जोशी

Foto

स्वास्थ्य के समाचार/health news

परिवार कल्याण मंत्री ने की इन्द्रधनुष टीकाकरण अभियान की समीक्षा

लखनऊ। प्रदेश की परिवार कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी ने योजना भवन, में मिशन इन्द्रधनुष अभियान के तहत टीकाकरण में पिछड़ गये प्रदेश के 7 जनपदों इलाहाबाद,औरेया,आजमगढ़,फरूर्खाबाद,फैज़ाबाद,कासगंज एवं कन्नौज में टीकाकरण कार्यक्रमों की समीक्षा की। 

बैठक में उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिये कि टीकाकरण में 90 प्रतिशत पूर्ण प्रतिरक्षण के लक्ष्य पर गम्भीरता से कार्य किया जाये। उन्होंने कहा गर्भवती महिलाओं और बच्चों का टीकाकरण केन्द्र सरकार के सर्वोच्च प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों में है। यह आवश्यक है कि वरिष्ठ अधिकारी रुचि लेकर योजनाबद्ध तरीके से अभियान चलाकर लक्ष्य पूरा करें। उन्होंने कहा अभियान को सफल करने के लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की सहायता लेने की भी व्यवस्था की जाए।

गौरतलब है कि गत 9 अक्टूबर को केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा द्वारा 17 राज्यों /केन्द्र शासित प्रदेशों में मिशन इन्द्रधनुष अभियान की समीक्षा बैठक की गई थी जिसमें टीकाकरण में पिछड़े 75 जिलों में 7 जिले यूपी के चिन्हित हुए थे। प्रो.जोशी मंगलवार को इन्ही 7 जिलों में टीकाकरण अभियान को शीर्ष लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए समीक्षा कर रही थी।

उन्होंने जिलों से आये अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे अभियान की सफलता के लिए शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में ध्यान दें तथा गर्भवती महिलाओं एवं बच्चों की संख्या का डाटा रखते हुए योजनाबद्ध तरीके से कार्य करें। 

बैठक में परिवार कल्याण मंत्री ने टीकाकरण अभियान में प्रदेश की उल्लेखनीय प्रगति पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के निदेशक पंकज को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यह प्रदेश की उपलब्धि है कि गत वर्ष तक टीकाकरण में पिछड़े जिलों की संख्या 60 से घटकर अब मात्र 7 रह गयी है।

मिशन निदेशक श्री पंकज ने बैठक में कहा कि अधिकारी इस अभियान को गम्भीरता से लें और टीकाकरण के साथ-साथ कार्ड बनाने का कार्य भी आवश्यक रूप से करें जिससे बच्चे एवं गर्भवती महिलाओं को लगाये गए टीकों का सही विवरण प्राप्त हो सके। 

बैठक में महानिदेशक परिवार कल्याण डा.नीना गुप्ता,राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन निदेशक पंकज,राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी ए0पी0 चतुर्वेदी सहित 7 जिलों के सीएमओ, जिला इम्य्यूनाइजेशन अधिकारी एवं सर्वे कार्य करने वाली संस्था के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

यह भी पढ़ें:   समलैंगिक संबंधों से हो रही ये गंभीर बीमारी, चौंकाने वाला खुलासा जान उड़...

यह भी पढ़ें:     जानिए किस रंग का शरीर पर कैसा होता है असर..

यह भी पढ़ें:    जानें आंखों के नीचे डार्क सर्कल होने के कारण और उपाय

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी