उन्नाव में सचल चिकित्सा इकाई के द्वारा 2797 ग्रामीणों तक पंहुचा उपचार

Foto

Health news/स्वास्थय के समाचार

मौके पर ही निशुल्क जांच के साथ ही उपलब्ध करायी गयी दवा

उन्नाव। फरवरी माह में शुरु की गयी सचल चिकित्सा इकाई एएमएमयू लगातार ऐसे ग्रामीणों को उनके दरवाजे पर उपचार उपलब्ध कराने का काम कर रही है जिन्हें उपचार के लिए घर से काफी दूर जाना पड़ता था। उन्नाव में एमएमयू के द्वारा कई ब्लाकों के दर्जनों गांवों में अब तक 2797 ग्रामीणों को उपचार उपलब्ध कराया गया है।

 

प्रदेश के तमाम जिलों के साथ ही लखनऊ में एमएमयू ग्रामीणों के बीच पंहुचकर उन्हें उपचार उपलब्ध कराने का काम कर रही है। उन्नाव के सिकन्दरपुर सरौसी ब्लॉक के सराए, गरेरपुरवा, भट्टपुरवा, स़त्रहा एतेयारेपुर एबं धुवा एसिगुही, तपरा,अटारी, गंगौली, एबधुन्ना, राहूतपुर, सफीपुर ब्लॉक, दरौली, गौरी, सकाहन व मियागंज ब्लॉक के हैदराबाद, मकबूलखेड़ा, पहाड़पुर, एमलहौली, सरदार नगर, रसूलाबाद व पुरवा ब्लॉक के मरदनखेड़ा, सरेथू, गंगाखेड़ा, रामखेड़ा, जंगलीखेड़ा, बड़ाखेड़ा, अटवा, मजगवा, बताउमऊ, बंगावो, बरबत समेत तमाम गांवों में एमएमयू के द्वारा लोगों को उपचार उपलब्ध कराया गया है।

उन्नाव में एमएमयू के द्वारा उपचार से करीब 2797 से अधिक मरीज लाभाविन्तत हो चुके हैं इसके साथ ही एमएमयू टीम के द्वारा 441 मरीजों का लैब टेस्ट भी किये गये हैं। वहीं, प्रदेश में यह आंकड़ा एक लाख से काफी ऊपर पंहुच चुका है। प्रदेश में बहु प्रतिक्षित सचल चिकित्सा इकाई का संचालन कर रही केएचजी हेल्थ सर्विसेज के सीईओ जितेंद्र वालिया ने बताया कि एमएमयू में मौजूद अनुभवी चिकित्सक की देखरेख में ग्रामीणों को उनके दरवाजे पर उपचार उपलब्ध कराने का काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सबसे ज्यादा मरीज सीजनल बीमारियों के आ रहे हैं। श्री वालिया ने बताया कि आने वाले मरीजों का चिकित्सक के परामर्श पर निशुल्क लैब टेस्ट व निशुल्क दवाओं का लाभ भी उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एमएमयू की टीम मौके पर ग्रामीणों को उपचार उपलब्ध कराने के साथ बीमारियों से सजग रहने व उनसे बचाव की जानकारी भी दे रही है। 

 

उन्होंने बताया कि जिला स्तर पर एमएमयू की मानीटरिंग के लिए जिला सुपरवाईजर मौजूद हैं। किस दिन किस गांव मे एमएमयू को उपलब्ध रहना है, ये जिले के सीएमओ द्वारा निर्धारित किया जाता है। एमएमयू का उद्देश्य सीएचसी व पीएचसी से दूरी पर स्थित गांव तथा दूरदराज के ग्रामीणों तक उपचार की उपलब्धता सुनिश्चित कराना है। एमएमयू में प्राथमिक उपचार, संक्रामक रोगों की स्क्रीनिंग, लैब टेस्ट, शुगर व ईसीजी जांच की सुविधा बिलकुल निशुल्क उपलब्ध है।

श्री वालिया ने बताया कि मोबाईल मेडिकल यूनिट एमएमयू में कई उच्चस्तरीय व आधुनिक उपकरण मौजूद हैं जो इसे और भी खास बना देते है । इनमे नेब्यूलॉईजर, इलेक्ट्रिक नीडिलडिस्ट्रायर, एईसीजी मशीन, एम्बू बैग, सेमी आटोमेटिक बायोकेमेस्ट्री, एनेलाईज़र, आटोस्कोप, टोनोमीटर, ग्लूकोमीटर, स्टेलाइज़र, एव्यू बॉक्स, ड्रेसिंग, एसेंट्रीफ्यूज मशीन, एलेरिंजोस्कोप, माइक्रो टाइपिंग सेंट्रीफ्यूज, हीमोग्लोबिन मीटर आदि प्रमुख हैं।

यह भी पढ़ें:जिले में 25 अप्रैल को मनाया जाएगा विश्व मलेरिया दिवस, कैसे करें मलेरिया से बचाव,जानें  

यह भी पढ़ें:62 वर्षीय मरीज को प्रत्यारोपित किया गया सबसे छोटा पेसमेकर

leave a reply

स्वास्थ्य

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी