'आतंकियों ने रास्ता रोकने के लिए बिछाई थी लाशें'

Foto

National News / राष्ट्रीय समाचार

नई दिल्ली। मुंबई में 26 नवंबर 2008 को हुए आतंकी हमले की आज 10वीं बरसी है। इस हमले में लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियों ने कई जगहों पर हमले कर 150 से ज्यादा लोगों की हत्या कर दी थी। भले ही उन हमलों को 10 साल बीत गए हों, लेकिन लोग आज भी उस घटना को नहीं भुला पाए हैं। हालांकि इसके बाद भी हजारों लोगों की जान बचाने के पीछे कई लोगों का हाथ था जिनका जिक्र आज तक नहीं किया गया। इनमें से एक थे गुरुग्राम के जाबांज कमांडो सुनील यादव। 

हमले में दुश्मन की गोली का शिकार होकर भी सुनील यादव ने आतंकियों से लड़ना जारी रखा और कई लोगों की जान बचाई। उस दिन को याद करते हुए सुनील यादव ने बताया कि उन्होंने ताज के छठी मंजिल से अपना आॅपरेशन शुरू किया था। उनके साथ होटल के कुछ कर्मचारी थे। वह विदेशी भाषा में बात कर रहे थे। मोर्चा लेते हुुए सुनील कुमार जब तीसरी मंजिल पर पहुंचे तो एक कमरे में छिपकर बैठी एक अधेड़ उम्र की​ विदेशी महिला को बाहर निकाला। वह अगले कमरे की ओर बढ़े तभी दरवाजा खुलते ही घात लगाए बैठे आंतकी ने कई राउंड फायर कर दी। एक होटल कर्मचारी घायल हो गया। जवाबी गोलीबारी में उन्होंने दो लोगों को खींचकर गोलियों के दायरे से बाहर किया। तभी तीन गोलियां सुनील कुमार के पीछे धंस चुकी थी। दो गोलियां कूल्हे पर और एक गोली चाकू पर आकर लगी।

इस आतंकी हमले में होटल पूरी तरह जल चुका था और कई जगह आगजनी की गई थी। सुनील कुमार के मुताबिक सबसे ज्यादा रोंगटे खड़े करने वाले मंजर रसोई के पास था। ग्राउंड फ्लोर पर ज्यादातर स्टाफ को आतंकियों ने मार दिय था। सीढ़ियों का रास्ता रोकने के लिए 15—20 शवों का एक सीढ़ी एक शव के हिसाब से बिछा दिया गया था। उन्होंने बताया कि जैसे ही वे कमरों में दाखिल होते पहले तो लोग डर के मारे सांसे रोककर खड़े हो जाते थे। जैसे ही उन्हें समझ में आता था कि वह उन्हें बचाने आएं है वह रोने लगते थे। उस वक्त तो सुनील कुमार उनके लिए भगवान ही होंगे। 

बता दे कि इस हमले में पुलिसकर्मियों ने दिलेरी से लड़ते हुए 9 आतंकियों ढेर कर दिया था, जबकि एकमात्र जीवित पकड़े गए अजमल कसाब को अदालत से मौत की सजा मिलने के बाद फांसी पर चढ़ा दिया गया था। 

यह भी पढ़ें: 26/11आतंकी हमला : जब दहली थी मायानगरी, वो काला दिन जिसे भुलाया नहीं जा सकता

यह भी पढ़ें: मुंबई हमले के 10 साल : अमेरिका का बड़ा ऐलान, आतंकियों की हवा टाइट

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी