फसलों की कटाई के पर्व के रूप में मनाया जाता 'मकर संक्रांति'

Foto

National News / राष्ट्रीय समाचार

नई दिल्ली। मकर संक्रान्ति का पर्व आज देशभर में परम्‍परागत श्रद्धा और हर्षोल्‍लास के साथ मनाया जा रहा है। यह सर्दियों की समाप्ति और फसलो की कटाई के पर्व के रूप में मनाया जाता है। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मकर संक्रांति, उत्‍तरायण और भोगाली बिहू के अवसर पर देशवासियों को बधाई दी है।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने मकर संक्रान्ति के अवसर पर लोगों को बधाई दी है। ट्वीट संदेश में पीएम मोदी ने कहा कि प्रकृति और परम्‍परा का यह त्‍यौहार लोगों के लिए अच्‍छा स्‍वास्‍थ्‍य और जीवन में खुशहाली लाये। उन्‍होंने पोंगल, माघ बिहु और उत्‍तरायण के अवसर पर भी लोगों को बधाई दी है।

गुजरात में मकर संक्रान्ति का पर्व पतंग उत्‍सव के रूप में हर्षोल्‍लास और परम्‍परागत ढंग से मनाया जा रहा है। राज्‍य में यह पर्व उत्‍तरायण के रूप में जाना जाता है। 

पतंग चगाने के साथ ही लोग छतों पर ही गीत और संगीत पर नाच रहे है और पारंपरिक स्‍वादिष्‍ट व्‍यंजनों का मजा उठा रहे हैं। अंतर्राष्‍ट्रीय पतंग महोत्‍सव समाप्‍त होने के साथ ही विदेशी पतंगबाज आज पुराने अहमदाबाद में पारंपरिक पतंगबाजी का मजा उठा रहे हैं। 

सामान्‍य हवा के साथ अच्‍छे मौसम के कारण युवाओं का पतंगबाजी का उत्‍साह दोगुना हो गया है। राज्‍य सरकार और स्‍वयंसेवी संगठनों ने पतंग की डोर से घायल होने वाले पक्षियों को बचाने के लिए विशेष हेल्‍पलाइन शुरू की है।

यह भी पढ़ें: 12 वर्ष के अंतराल पर ही क्यों लगता है कुंभ मेला?

यह भी पढ़ें: जानिए क्यों काल भैरव ने काट दिया था ब्रह्मा का सिर? 

 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी