सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण, पूरे एक घंटे 43 मिनट रहेगा

Foto

 भारत के समाचार, india news

 

नई दिल्ली। जल्द ही सदी का सबसे लंबा चंद्रग्रहण लगने वाला है,यह चंद्रग्रहण 1 घंटे और 43 मिनट तक चलेगा जो बीती 31 जनवरी को लगे 'सुपर ब्लू ब्लड मून' के मुकाबले लगभग 40 मिनट लंबा होगा। 27 जुलाई की रात को आसमान में चांद का नजारा कुछ अलग ही देखने को मिलेगा। इस रात 21वीं सदी का सबसे लंबा और पूर्ण चंद्र ग्रहण लगने वाला है। 

इसका नजारा भारत के साथ-साथ यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका, अफ्रीका और पश्चिम एशिया में साफ-साफ देखा जा सकेगा। जानकारी के मुताबिक चंद्र ग्रहण ब्रिटेन के समय के हिसाब से 9.22 मिनट पर तेजी से चमकेगा। इस पूर्ण चंद्र ग्रहण का नजारा भारत समेत अफ्रीका, मिडिल ईस्‍ट और दक्षिण एशिया में खुली आंखों से देखा जा सकेगा, आइए जानते हैं कि क्‍या होता है सुपरमून, ब्‍लड मून और चंद्र ग्रहण।

 

यह भी पढ़ें..बाबा भोलेनाथ दर्शन के लिए अमरनाथ यात्रियों का पहला...

 

क्‍या होता है ब्‍लड मून 
पूर्ण चंद्र ग्रहण के दौरान सूर्य और चांद के बीच जब पृथ्वी मौजूद होती है तब वायुमंडल से होते हुए कुछ रोशनी चांद पर पड़ती है। सूर्य की रोशनी चांद पर पड़ने से वह हल्का लाल हो जाता है। ऐसे में जब चांद पृथ्वी के ठीक पीछे पहुंचता है, उसका रंग और गहरा हो जाता है।    

 

यह भी पढ़ें...विदेश मंत्रालय के बाद सेना प्रमुख ने खरिज की यूएन की...

 

क्‍या होता है चंद ग्रहण 

चंद्र ग्रहण तब होता है जब सूर्य, पृथ्वी एवं चंद्रमा ऐसी स्थिति में होते हैं कि कुछ समय के लिए पूरा चांद अंतरिक्ष में धरती की छाया से गुजरता है, लेकिन पृथ्वी के वायुमंडल से गुजरते वक्त सूर्य की लालिमा वायुमंडल में बिखर जाती है और चंद्रमा की सतह पर पड़ती है, इसे ब्लड मून भी कहा जाता है। 
 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी