बेंगलुरु से कोलकाता लाया गया जिंदा 'दिल', मरीज की बचाई गई जान

Foto

बेंगलुरु में दिमागी रूप से मृत एक युवक के हृदय को हवाई रास्ते से कोलकाता लाकर झारखंड के 21 वर्षीय एक व्यक्ति में सफल प्रतिरोपण किया गया। इसे उत्तर-पूर्वी भारत में भी पहला ऐसा हृदय प्रत्यारोपण सर्जरी का मामला बताया जा रहा है जहां सोमवार सुबह दानकर्ता के हृदय को बेंगलुरु से कोलकाता लाया गया। बता दें कि दोनों शहरों के बीच दूरी करीब 1900 किलोमीटर है। फिर इसे ग्रीन कॉरिडोर के माध्यम से एयरपोर्ट से ईएम बाइपास स्थित फोर्टिस अस्पताल पहुंचाकर एक मरीज की जान बचाई गई।

एक सड़क दुर्घटना में बेंगलुरु के वरुण बीके (21) की मौत हो गई थी। डॉक्टरों ने उसे शनिवार को ब्रेन डेड घोषित कर दिया था। इसके बाद मृतक के परिवार के सदस्यों ने हार्ट डोनेशन की इच्छा व्यक्त की थी। अस्पताल अथॉरिटी ने तुरंत चेन्नै के मल्हार फोर्टिस अस्पताल से संपर्क किया लेकिन उस वक्त वहां कोई जरूरतमंद नहीं था। इसके बाद तुरंत कोलकाता के फोर्टिस अस्पताल से संपर्क साधा गया। यहां भर्ती दिलचंद सिंह गंभीर रूप से कार्डियोमायोपैथी से पीड़ित थे। डोनर और दिलचंद का ब्लड ग्रुप ए पॉजिटिव निकला। 

इसके अलावा करीब 18 किलोमीटर की इस दूरी को 22 मिनट में पूरा कर लिया गया। उन्होंने बताया कि अस्पताल में डॉक्टरों की एक टीम ने दो घंटे तक हृदय रोग से पीड़ित मरीज का ऑपरेशन किया और यह हृदय प्रतिरोपण सफल रहा। 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी