अब राहुल मुक्त अमेठी के अभियान में जुटी भाजपा  

Foto

भारत के समाचार, News of India, देश 

 

300 शाखाओं से माहौल बनाने की तैयारी


कुमार अरविन्द श्रीवास्तव

लखनऊ। कांग्रेस मुक्त भारत का नारा दे रही भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गढ़ अमेठी को ही कांग्रेस से मुक्त कराने का दांव लगाने में जुट गई है। इसके लिए एक तरफ जहां भारतीय जनता पार्टी जिला संगठन को मजबूती देते हुए कार्यकर्ताओं को बूथ स्तर तक ऐक्टिव कर दिया है तो वहीं दूसरी तरफ अमेठी में संघ अपनी 300 शाखाएं लगाकर भाजपा के पक्ष में माहौल तैयार कर रही है। 

 

ये भी पढ़ें: गन्ना मूल्य में बढ़ोत्तरी को मोदी...

 

गौरतलब है कि भाजपा की निगाहें काफी पहले से कांग्रेस के सबसे सुरक्षित सीट अमेठी और रायबरेली पर टिकी हुई हैं। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भी भाजपा संघ को माध्यम बनाकर अमेठी में अपनी पकड़ मजबूत करने की तैयारी की थी, जिसके तहत संघ के सह सर कार्यवाहक और भाजपा संघ के समन्वयक डाक्टर कृष्ण गोपाल का बड़ा कार्यक्रम कराया गया था। जिसके बाद भाजपा को अमेठी में बड़ा फायदा भी मिला था। इस कार्यक्रम के बाद भाजपा के वोट प्रतिशत में तकरीबन 40 फीसदी का इजाफा दर्ज किया गया था। हालांकि भाजपा उम्मीदवार स्मृति ईरानी चुनाव हार गई थीं।

 

ये भी पढ़ें: पेट्रोलियम जीएसटी पर दरें व तिथि तय...

 

भाजपा और संघ के वरिष्ठ सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक भाजपा अब राहुल गांधी और सोनिया गांधी की सीट पर सीधा वार करने के मूड में है। हालांकि इस रणनीति पर सीधे संघ ऐक्शन मोड में आ चुका हैं और पीछे से भाजपा भी अपने तरकश के तीर इस्तेमाल कर रही है। सूत्रों पर भरोसा करें तो भाजपा कहीं से यह नहीं चाहती कि कांग्रेस के लोग अमेठी और राय बरेली को लेकर उसकी रणनीति के बारे में जाने। संभवत: इसीलिए भाजपा संघ को आगे करके खुद पीछे से मतदाताओं के बीच सेंधमारी में जुटी है। 

 

ये भी पढ़ें: आरएसएस कार्यकर्ता अब पर्यावरण बचाने...

 

संघ के मुताबिक अमेठी और रायबरेली को कांग्रेस मुक्त बनाने के क्रम में संघ ने यहां अपनी 300 शाखाएं लगानी शुरू कर दी हैं। अमेठी को संघ ने तीन जिलों और 300 से अधिक मंडलों में विभाजित किया है। जिसके तहत यहां के 45 मंडलों में कुल 145 शाखाएं चलाई जा रही हैं। वहीं स्वयं सेवको से मुलाकात के लिए और उन्हें नए दिशा निर्देश देने के लिए मंडलीय कार्यक्रम जो सप्ताह में एक बार आयोजित हो रहे हैं, मिलन कार्यक्रम जिसको मासिक आधार पर किया जा रहा है। जिसके तहत संघ के कई वरिष्ठ और नामी पदाधिकारी उपस्थित होकर अपनी नीति और चर्चाएं करेंगे। इसके साथ ही नए स्वयं सेवकों को जोड़ने का काम बहुत तेजी से किया जा रहा है। जो कांग्रेस के मतदाताओं को तोड़कर संघ से जोड़ने की एक बड़ी मुहिम के तहत हो रहा है। 

 

ये भी पढ़ें: निदा को कोर्ट से बड़ी राहत, तीन तलाक...

 

नए स्वयं सेवकों को संगठन के वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा पहले उनको सात दिनों की ट्रेनिंग फिर वरिष्ठों द्वारा उनका ब्रेनवाश तथा संघ से जुड़ने की उपयोगिता बताई जा रही है। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को संघ से जोड़ा जा सके। इसके लिए संघ के लोग निगाह भी रख रहे हैं कि कोई स्वयं सेवक उनसे छिटकने न पाए। 

 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी