देवरिया कांड के बाद हरकत में सरकार, केंद्रीय मंत्री ने दिये ये सख्त आदेश

Foto

भारत के समाचार/India News

कहा एनजीओ ने अपना काम व्यापक ढंग से नही किया

देवरिया। बिहार के मुजफ्फरपुर व यूपी के देवरिया में शेल्टर होम में महिलाओं के साथ यौन शोषण के मामले सामने आने के बाद गंभीर हुए महिला बाल विकास मंत्रालय ने देश भर के 9 हजार से ज्यादा बाल देखभाल गृहों के सोशल आॅडिट 60 दिनों के भीतर कराने का आदेश दिया है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बाल अधिकार संरक्षण आयोग को ऑडिट कराने की जिम्मेदारी दी गई है और दो महीने के भीतर मंत्रालय के समक्ष अपनी रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है I देश में कुल 9462 बाल देखभाल संस्थान है इसमें से 7,109 पंजीकृत है इन बाल देखभाल संस्थानों को चलाने के लिए सरकार कोष मुहैया कराती है और इन संस्थानों को चलाने के लिए राज्य एनजीओ की सहायता लेते हैं I

 

ये भी पढ़ें:  करुणानिधि ने दिलाया मुख्यमंत्रियों को तिरंगा फहराने का अधिकार

 

महिला, बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने सुझाव दिया है कि राज्यों में एकल,व्यापक व्यवस्था होने से अधिकारियों के लिए राज्य सरकार से पोषित और गैर सरकारी संगठनों द्वारा संचालित शेल्टर होम में बच्चों से उत्पीड़न और गलत व्यवहार की रोकथाम आसान हो जाएगी।

केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने कहा है कि वे पिछले दो वर्षे से सांसदों को पत्र लिख रही हैं कि वे अपने क्षेत्र के शेल्टर होमों की जांच करे साथ ही एनजीओ से भी शेल्टर होमों का आॅडिट कराने को कहा,उन्होने कहा कि उनके द्वारा जो रिर्पोट दी गयी कि उनके यहां पर सब कुछ सामान्य होने की बात कही गयी है जिससे साफ है कि उन्होने अपना काम व्यापक तरीके से नही किया है।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एनजीओ संचालित इन गृहों में मुश्किल में घिरी महिलाओं, लड़कियों और बच्चों को सिर्फ बाल कल्याण समिति से स्वीकृति मिलने के बाद ही अस्थायी आश्रय दिया जाता है। शेल्टर होम की बदहाल स्थिति पर महिला,बाल विकास मंत्री का यह बयान ऐसे वक्त आया है जब उत्तर प्रदेश के देवरिया में एक शेल्टर होम में यौन उत्पीड़न के आरोप सामने आने के बाद 24 लड़कियों को बचाया गयाI

 

ये भी पढ़ें:    बारामूला में सेना ने मार गिराये 2 आतंकी, एक जवान घायल

 

नाबालिग लड़कियों के यौन शोषण का मामला पहली बार अप्रैल में सुर्खियों में आया जब टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान (टिस) ने बिहार में शेल्टर होम पर अपनी ऑडिट रिपोर्ट राज्य के समाज कल्याण विभाग को सौंपी। इसमें मुजफ्फरपुर में शेल्टर होम में लड़कियों के साथ यौन दुर्व्यवहार की आशंका व्यक्त की गई जिसकी बाद में चिकित्सा जांच में पुष्टि हुई एक के बाद एक हुए खुलासों के बाद मेनका गांधी ने इन घटनाओं पर हैरानी व्यक्त की और आशंका जताई की कि ऐसे कई और मामले हो सकते हैं जिनका खुलासा होना अभी बाकी हैं।

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी