'गगनयान मिशन ISRO के इतिहास में टर्निंग प्‍वाइंट होगा'

Foto

National News / राष्ट्रीय समाचार

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने कहा है कि वह दिसंबर 2021 तक बाह्य अंतरिक्ष में मानव मिशन- गगनयान शुरू करने के लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए पूरी तरह तैयार है।

संगठन के अध्‍यक्ष डॉक्‍टर के सिवन ने बंगलूरू में संवाददाताओं को बताया कि इस अभियान के लिए मानव अंतरिक्ष केन्‍द्र स्‍थापित किया गया है। उन्‍होंने बताया कि मानव मिशन- गगनयान परियोजना के तहत भारत तीन अंतरिक्ष यात्रियों को सात दिन के लिए बाह्य अंतरिक्ष में भेजने की योजना बना रहा है।

इसरो अध्‍यक्ष ने बताया कि इस वर्ष 332 प्रक्षेपणों की योजना है। चंद्रयान-2 को अप्रैल के मध्‍य में चांद पर भेजा जाएगा। जीसैट-20 उपग्रह का प्रक्षेपण सितंबर-अक्‍तूबर में किया जाएगा। इसरो अध्‍यक्ष सिवन ने बताया कि इसरो 2023 तक शुक्र ग्रह पर एक मिशन भेजने की योजना बना रहा है।

उन्‍होंने बताया कि इसरो टी वी चैनल की शुरुआत अगले 3-4 महीनों तक कर दी जाएगी। इसरो, नए उद्यमों की शुरुआत के लिए स्‍टार्टअप्‍स में मदद के वास्‍ते देश भर में छह इनक्‍यूबेशन केन्‍द्रों की स्‍थापना भी करेगा।

संगठन के अध्‍यक्ष ने यह भी बताया कि चंद्रयान-2 अभियान के तहत पहली बार लैंडअप और रोवर, चांद के दक्षिणी ध्रुव का अध्‍ययन करेंगे। इसरो, नैनो उपग्रह के विकास के लिए प्रतिभावान विद्यार्थियों को आमंत्रित करेगा। 

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार का बड़ा फैसला, देश को मिलेंगे तीन नए AIIMS

यह भी पढ़ें: 5 सालों में प्रदूषण स्तर 20 से 30 फीसदी घटाने का लक्ष्य

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी