'लड़कियों के साथ हो रहे अपराध की वह खुद ज़िम्मेदार हैं'

Foto

India News / भारत समाचार

नई दिल्ली। अगर किसी लड़की के साथ कोई आपराधिक घटना होती है तो उसके लिए 95 प्रतिशत वो खुद जिम्मेदार होती है। कुछ ऐसा बयान जैन मुनि विश्रांत सागर ने दिया है। साथ ही जैन मुनि ने लड़कियों को संयमित रहने की सलाह भी दी है।

सीकर जिले मुख्यालय पर चातुर्मास कर रहे जैन मुनि विश्रांत सागर ने कहा कि आज के वक्त में लड़कियों को संभल कर चलना चाहिए। लड़कियों को अपने पीहर पक्ष और ससुराल पक्ष दोनों की इज्जत बचा कर रखनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: लिफ्ट देकर महिला से किया दुष्कर्म

जैन मुनि यहीं नहीं रुके। उन्होंने लड़कियों को सामग्री (सामान) बताया। आगे उन्होंने कहा कि आज के समय में लड़कियों को पश्चिमी संस्कृति के बहकावे में नहीं आकर संस्कार के साथ शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए।

मालूम हो कि एक रिपोर्ट में भारत को महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश बताया गया है। जैन मुनि का यह बयान उस वक्त आया जब बिहार के पटना से लेकर यूपी के देवरिया तक के शेल्टर होम्स में अनाथ बच्चियों को तार—तार कर दिया गया है। इसके अलावा आये दिन महिलाओं और मासूमों से साथ दुष्कर्म की घटनाएं सामने आती रहती है।

यह भी पढ़ें: महिला डॉक्टर पर एसिड अटैक करने वाले आरोपी गिरफ्तार

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी