7 मार्च : देशभर में मनाया जा रहा 'जन औषधि दिवस'

Foto

National News / राष्ट्रीय समाचार

नई दिल्ली। जन औषधि दिवस आज देशभर में मनाया जाएगा। देश के छह सौ बावन जिलों में पांच हजार से अधिक प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि परियोजना केंद्र काम कर रहे हैं।

रसायन और उर्वरक राज्‍य मंत्री मनसुख मांडविया ने नई दिल्‍ली में संवाददाताओं को बताया कि पिछले तीन वर्षों में जेनेरिक औषधियों की बाजार में हिस्‍सेदारी में तीन गुना बढ़ोतरी हुई है जो दो प्रतिशत से बढ़कर सात प्रतिशत हो गई है।

मांडविया ने कहा कि सरकारका लक्ष्‍य 2020 तक ब्‍लॉक स्‍तर पर जन औषधि केन्‍द्र खोलने का है।  

सारे देश में हमने पांच हजार जन औषधि स्टोर आज के दिन में सर्व कर दिया है। ये जन औषधि स्टोरपर मेक्सिमम 50 परसेन्ट, मिनिमम 20 परसेन्ट, 30 परसेन्‍ट रेट में क्‍वालिटी जेनेरिक मेडिसिन उपलब्‍ध होती है।

जन औषधि केंद्र के माध्यम से जेनेरिक मेडिसिन उपलब्ध करवा के देश में जेनेरिक मेडिसिन पोपुलर बने, उसकेलिए भी हमने प्रयास करना शुरू किया है। इन केंद्रों से प्रतिदिन दस से पन्‍द्रह लाख लाभार्थी औषधियां खरीद रहे हैं।

सरकार आयुष्मान भारत और प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि जैसी योजनाओं के जरिए से सभी के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य देखभाल सुनिश्चित करने के लिए लगातार काम कर रही है।

इस परियोजना से आम नागरिकों को करीब लगभग 1000 करोड़ रुपये की बचत हुई है, केंद्रों के जरिए बेची जाने वाली दवाईओं की कीमत औसत बाजार मूल्य से 50 से 90 प्रतिशत तक कम होती है।

जन औषधि दिवस पर आज सभी केंद्रों पर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस बारे में जागरूक किया जा सके। 

यह भी पढ़ें: मैं आतंकवाद मिटाने की कोशिश कर रहा हूं और विपक्ष मुझे : पीएम मोदी

यह भी पढ़ें: लगातार तीसरे साल स्वच्छता में नंबर-वन बना इंदौर

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी