ऑपरेशन लोटस खत्म कर सकती है बीजेपी, कांग्रेस के तीन विधायक गायब

Foto

भारत के समाचार/india news


बंगलूरू। कर्नाटक में सियासी ड्रामा रुकने का नाम नहीं ले रहा है। यहां बीजेपी का ऑपरेशन लोटस खत्म तो समाप्त कर दिया गया है, लेकिन अब कांग्रेस के तीन विधायकों के गायब होने से हड़कंप मच गया है। कांग्रेस बीजेपी पर अपने विधायकों के खरीद फरोख्त का आरोप लगाती रही है। इस बीच यहां विधायकों के गायब होने के सिलसिले ने सियासी गलियारे में भूचाल ला दिया है। कांग्रेस आज बैठक बुलाकर शक्ति प्रदर्शन का अहसास दिलाएगी। इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली गई है। 

 


मुश्किलें नहीं हो रही कम

 

कर्नाटक में कांग्रेस और जद(एस) गठबंधन सरकार की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही है। इसकी वजह यह है कि कांग्रेस पार्टी के तीन विधायकों का पता नहीं लग पा रहा है। वहीं, दो निर्दलीय विधायक बीजेपी को समर्थन देने का ऐलान पहले ही कर चुके हैं। ऐसे में बीजेपी की उम्मीदों को लगातार धार मिल रही है। विधायकों के गायब होने के सिलसिले से कांग्रेस में डर बन गया है। इसलिए बैठक बुलाकर कांग्रेस भाजपा में शामिल हो रहे विधायकों को चेता कर सभी तरह की अटकलों पर विराम लगा देना चाहती है।  

 

दूसरी बार खतरा


बताते चलें कि एचडी कुमारस्वामी की सरकार पर यह दूसरी बार खतरा मंडराया है। इस बाद गठबंधन की सरकार में हड़कंप मच गया है। बताया जा रहा है कि विधानसभा में होने वाली कांग्रेस की बैठक में यदि ​10 विधायक शामिल नहीं हुए तो बीजेपी का ऑपरेशन लोटस चलता रहेगा। मुंबई के आलीशान होटलों में ठहरे कांग्रेस की तीन विधायकों रमेश जरकीहोली, महेश कुमार टल्ली और उमेश जाधव से काफी उम्मीदे बनी हुई है। इसके साथ ही बात करें विधायक शिवराम हेब्बर व जेएन गणेश की तो वह अब वापस अपने घर लौट आए हैं और कांग्रेस के प्रति ही निष्ठा व्यक्त की है। 

 

 

पहले से तय यात्रा


इसके साथ ही विधायक हेब्बर ने कर्नाटक इकाई के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव से मुलाकात की थी। उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष को बताया कि पहले से ही नियोजित अंडमान निकोबार द्वीप समूह में वह परिवार के साथ गए हुए थे। यह बात अलग है कि यह सब तब हो गया जब वह बाहर गए हुए थे। हालांकि, उन्होंने यह भी खुलासा किया कि कैबिनेट मंत्री नहीं बनाए जाने से वह नाराज हैं। लेकिन इसकी लड़ाई वह पार्टी में ही रहकर लड़ेंगे। इसके साथ ही विधायक गणेश ने भी यह कह दिया है कि वह बीजेपी में शामिल नहीं होंगे। वह दोस्तों और फैमिली के साथ चिकमंगलूरू में थे।


पूर्व सीएम ने दी चेतावनी

 

दूसरे विधायक गणेश ने भी कहा कि वह भाजपा में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने कहा, 'मैं मुंबई या कहीं और नहीं गया। मैं चिकमंगलूरू में अपने परिवार और दोस्तों के साथ था।' गणेश पहली बार विधायक बने हैं। देसरी ओर विधायक दल के नेता व पूर्व सीएम सिद्धारमैया ने बैठक में विधयकों के शामिल नहीं होने पर कानूनी कर्रवाई की चेतावनी दी है। 

 

ये भी पढ़ें:   अमेरिका से हर साल पांच अरब डॉलर का तेल-गैस खरीदेगा भारत

 

ये भी पढ़ें:   शिवसेना की BJP को नसीहत, कन्हैया मामले का राजनीतिक फायदा ना उठाएं

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी