प्रकृति के कहर से केरल में कोहराम 'अबततक—26' की मौत

Foto

भारत के समाचार/ India News

वायु सेना ने शुरू किया रेस्क्यू आपरेशन, अलर्ट जारी

 

तिरुवनंतपुरम। प्रकृति के कहर ने पिछले दो दिनों से केरल में कोहराम मचा रखा है। भारी बारिश के बाद अचानक आई बाढ़ और वर्षाजनित हादसों में गुरुवार तक 22 लोगों की मौत हो चुकी थी जो शुक्रवार को बढ़कर 26 तक पहुंच गई है।  काफी लोग बाढ़ के बीच फंसे हुए हैं।बाढ़ और बारिश को लेकर हर तरफ अफरा-तफरी का माहौल कायम है, जो जहां जगह पा रहा है खुद के बचाव में भाग रहा है। इस बीच सेना, पुलिस और आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने रेस्क्यू आपरेशन शुरू कर दिया है वहीं केरल सरकार ने इडुक्की सहित आस—पास के जिलों में अलर्ट जारी करते हुए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर रहने की चेतावनी जारी की है। कई स्थानों पर सड़कों के धंसने के बाद जिले में पर्यटकों के प्रवेश को भी रोक दिया गया है।

 

ये भी पढ़ें:  विपक्ष के हंगामे की भेंट चढ़ा ट्रिपल तलाक बिल

 

 

राज्य के उत्तरी जिलों में गुरुवार रात से सेना के पांच कॉलम की तैनाती की गई है कोझिकोड और वायनाड़ में कई स्थानों पर फंसे लोगों को निकालने के लिए कई छोटे पुलों का निर्माण किया गया है केरल में दक्षिण-पश्चिमी मानसून के कारण भारी बारिश हो रही है जिसके बाद आठ अगस्त से भूस्खलन और बाढ़ के कारण 26 लोगों की जान जा चुकी है।

इडुक्की जिला प्रशासन ने पहाड़ी क्षेत्रों में पर्यटकों की आवाजाही पर रोक लगा दी है, इसके अलावा भारी माल वाहनों को भी रोक दिया है राज्य के पर्यटन मंत्री कडकमपल्ली सुरेंद्रन ने बताया कि बुधवार से मुन्नार के जूडी रिसॉर्ट में फंसे 30 पर्यटकों को बचाया गया वे सुरक्षित हैं।

 

 

ये भी पढ़ें:   दिल्‍ली पुलिस को मिली महिला 'ऑल वुमन SWAT टीम', की सौगात

 

जलस्तर बढ़ने के कारण राज्य के 24 बांधों के गेट खोल दिए गए हैं इडुक्की जलाशय के तीन शटर पहले ही खोले जा चुके थे जलाशय के हिस्से चेरूथोनी बांध के दो और शटर आज सुबह खोले गए एक शटर तो,26 साल बाद खोला गया।

मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने बाढ़ के हालात का जायजा लिया सेना, नौसेना,वायुसेना, तटरक्षक बल और एनडीआरएफ राहत कार्य में जुटे हैं उन्होंने कहा कि बढ़ते जल स्तर को देखते हुए,जितना पानी छोड़ा जा रहा है, उससे तीन गुना अधिक पानी छोड़ने की जरूरत है। कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से बात की थी और हर संभव मदद का भरोसा दिलाया था।
 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी