महात्वपूर्ण बैठक में ही नही पंहुचे यूपी समेंत चार राज्यों के जिम्मेदार मंत्री

Foto

भारत के समाचार/state news

नई दिल्ली। जनता चाहे जितना परेशान हो और सुप्रीम कोर्ट चाहे जितनी फटकार लगा ले पर राज्य सरकारें प्रदूषण को लेकर कितना गंभीर हैं इसका अंदाजा गुरूवार को दिल्ली में एनसीआर और दिल्ली में प्रदूषण को लेकर गहरा रही स्थिति पर बुलायी गयी बैठक से ही लगाया जा सकता है जहां पर यूपी समेंत चार राज्यों के पर्यावरण मंत्री पंहुचे ही नही। बैठक में राज्यों के मंत्रियों के ना आने से नाराज केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने कहा कि वे अब इस महात्वपूर्ण मुद्दे पर राज्य सरकारों से बात करेंगे।

बता दें कि दिल्ली और एनसीआर में लगातार प्रदूषण की स्थिति बिगड़ती जा रही है आलम यह कि वहां की हवा में अब सांस लेने तक में लोगों को दिक्कत महसूस हो रही है। यही कारण है कि कोर्ट ने भी वहां के हालातों पर चिन्ता जताते हुए इस पर ध्यान देने के आदेश सरकार को दिये थे।

गुरूवार को इसी महात्वपूर्ण मुद्दे पर केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन ने राज्यों के पर्यावरण मंत्रियों की बैठक बुलायी थी पर बैठक में प्रभावित प्रमुख राज्य उत्तर प्रदेश,पंजाब व राजस्थान के पर्यावरण मंत्री जब नही पंहुचे तो केंद्रीय मंत्री का गुस्सा भी भड़क गया और उन्होने कड़ी नाराजगी जताते हुए कहा कि लगता है वे इस मुख्य मामले में भी गंभीर नही हैं इसलिए अब राज्य सरकारों से ही बात की जायेगी।

वहीं बैठक में दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन व दिल्ली के मुख्य सचिव और पर्यावरण सचिव समेंत अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि उन्होने इस मामले में पंजाब के सीएम कै.अमरिंदर सिंह से फोन पर बात करने का प्रयास किया पर उनके विदेश में होने के कारण उनसे बात नही हो पायी।

आगे सभी राज्य सरकारों से बात की जायेगी। दिल्ली में आज संबद्व राज्यों के साझा प्रसास की समीक्षा के लिए यह बैठक बुलायी गयी थी। बता दें कि केंद्र की जांच रिर्पोट में किसी भी शहर की स्थिति संतोषजनक नही पायी गयी है प्रदूषण को रोकने के प्रयास भी संतोषजनक नही पाये गये हैं।

यह भी पढ़ें:   PoK से गुजरने वाली पाक-चीन बस सेवा के विरोध में भारत

यह भी पढ़ें:    ईडी ने कहा कि चिदंबरम को हिरासत में लेने की जरूरत

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी