अब राजनाथ पर आयी ये बड़ी जिम्मेदारी

Foto


नई दिल्ली/लखनऊ। देश में कई मामलों पर घिरी बीजेपी व यूपी में उसके ही दलित सांसदों के द्वारा लगातार पीएम को पत्र लिखकर जतायी जा रही नाराजगी के बाद बैकफुट पर आयी पार्टी ने स्थिति पनयंत्रित करने की कमान अपने सबसे मझे हुए वरिष्ठ नेता व देश के गृहमंत्री राजनााथ सिंह को सौंपी है और राजनाथ अपने निर्धारित कार्यक्रम से पहले ही राजधानी लखनऊ आ गये और पूरी तैयारी करने के बाद सोमवार को उन्होने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ व प्रदेश तमाम मंत्रियों व सांसदों के साथ बैठक नेताओं को समझाने के साथ ही प्रदेश के अति पिछड़े जिलों के विकास को लेकर भी चर्चा की।

केंद्र ने राजनाथ को चिन्हित 8 पिछड़े जिलों की भी जिम्मेदारी सौंपी है। देश के अति पिछड़े 115 जिलों में शामिल उत्तर प्रदेश के आठ जिलों को विकसित करने के एजेंडे पर लखनऊ में देश के गृहमंत्री राजनाथ सिंह और सीएम योगी आदित्यनाथ की बैठक योजना भवन में आयोजित हुई इस बैठक में इन दोनों के अलावा यूपी सरकार के कई मंत्री, तमाम सांसद और कई अधिकारी मौजूद रहे।

सरकार का मकसद 2022 तक सभी जिलों को विकसित करना है, उत्तर प्रदेश के सभी जिलों को विकसित करने की जिम्मेदारी गृहमंत्री राजनाथ सिंह को मिली है। नीति आयोग ने उत्तर प्रदेश के आठ जिले- चित्रकूट, बलरामपुर, बहराइच, सोनभद्र, श्रावस्ती, चंदौली, सिद्धार्थनगर और फतेहपुर को अति पिछड़ा घोषित किया है।

नीति आयोग की लिस्ट में शामिल सभी 115 जिलों के विकास की रियल टाइम मॉनिटरिंग के लिए एक-एक केंद्रीय मंत्री को जिम्मेदारी सौंपी गई है। यूपी के सभी जिलों में विकास की रूपरेखा और रियल टाइम मॉनिटरिंग के लिए राजनाथ सिंह को जिम्मेदारी दी गई है। आज की बैठक में राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ मिलकर विकास का खाका तैयार किया।

 

8 अप्रैल को लखनऊ पहुंचे राजनाथ सिंह

इन जिलों को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए सरकार इतनी गंभीर है कि राजनाथ सिंह 8 अप्रैल को ही लखनऊ पहुंच गए। पिछले दो दिनों से वे लखनऊ में ही डेरा जमाए हुए हैं, इन जिलों के सभी विभागीय अधिकारियों के साथ लगातार बैठक कर रहे हैं। 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी