मोदी मैजिक का कमाल...  दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना भारत

Foto

भारत के समाचार/ NATIONAL NEWS

 

नई दिल्ली। विश्व बैंक द्वारा वर्ष 2017 के लिए जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार, भारत विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बन गया है। विश्व बैंक द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार 2017 में भारत 2.59 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर के सकल घरेलू उत्पाद के साथ छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया, जिसने फ्रांस को सांतवे स्थान पर पहुंचा दिया है।

आंकड़ों के अनुसार फ्रांस का सकल घरेलू उत्पाद 2.58 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर था। ब्रेक्जिट का सामना करने वाले यूनाइटेड किंगडम का सकल घरेलू उत्पाद 2.62 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर था, जो कि भारत की तुलना में 25 बिलियन अमेकिरी डॉलर अधिर है। वहीं अमेरिका दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है जिसका सकल घरेलू उत्पाद 19.39 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर है।

12.23 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर सकल घरेलू उत्पाद के साथ चीन दूसरे स्थान पर है। जापान 4.87 ट्रिलियन तथा जर्मनी 3.67 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की GDP के साथ क्रमश: तीसरे और चौथे स्थान पर हैं। सकल घरेलू उत्पाद के आधार पर शीर्ष दस में अन्य तीन देश ब्राजील(8वां), इटली(9वां) और कनाडा(10वां) हैं।

 

ये भी पढ़ें- ग्लोबल फायर पावर ने किया 136 देशों आकलन....सैन्य ताकतों में भारत चौथे स्थान पर

 

अप्रैल, 2018 में अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा जारी वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक के अनुसार, भारतीय अर्थव्यवस्था 2.61 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की GDP के साथ फ्रांस की 2.58 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की GDP की तुलना में आगे रही।

आखिर कैसे सुधरी भारत की अर्थव्यवस्था-

हाल के वर्षों में भारत में व्यवसाय को सरल बनाने के लिए भारत सरकार ने विभिन्न कदम उठाए हैं। इन सुधारात्मक उपायों में GST, विमुद्रीकरण तथा दिवाला एवं दिवालियापन संहिता(IBC) का कार्यान्वयन शामिल है। मार्च 2018 को समाप्त हुए वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही के दौरान सराकरी खर्च तथा निवेश की मदद से देश की अर्थव्यवस्था में 7.7 फीसदी तक उच्च वृद्धि दर्ज की गई।

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के अनुसार, इस साल भारत की ग्रोथ 7.4 फीसदी रह सकती है और कर सुधार एवं घरेलू खर्चे के चलते 2019 में भारत की विकास दर 7.8 फीसदी तक पहुंच सकती है। वहीं, दुनिया की औसत विकास दर के 3.9 फीसदी रहने का अनुमान जताया गया है।

 

ये भी पढ़ें- ईरान से आयातित तेल में भारत ने की कटौती

 

आखिर क्या है ‘वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक’-

वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक एक सर्वेक्षण है जिसका आयोजन तथा प्रकाशन अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष द्वारा किया जाता है। यह भविष्य के चार वर्षों तक के अनुमानों के साथ निकट और मध्यम संदर्भ में वैश्विक अर्थव्यवस्था को चित्रित करता है। WEO पूर्वानुमान में सकल घरेलू उत्पाद, मुद्रास्फिति, चालू खाता और दुनिया भर के 180 से अधिक देशों के वित्तीय संतुलन जैसे महत्वपूर्ण आर्थिक संकेतक शामिल हैं।

क्या है ‘वर्ल्ड बैंक’-

विश्व बैंक संयुक्त राष्ट्र की विशिष्ट संस्था है, इसकी स्थापना 1944 में अमेरिका के ब्रेटन वुड्स शहर में हुई थी। इसका मुख्यालय वाशिंगटन डीसी में है, इसका उद्देश्य विश्व को आर्थिक तरक्की के रास्ते पर ले जाना, विश्व में गरीबी को कम करना तथा अंतर्राष्ट्रीय निवेश को बढ़ावा देना है।

 

 

 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी