मस्जिद मुसलमानों का अभिन्न अंग है, फैसला करेगा सुप्रीम कोर्ट

Foto

भारत के समाचार

 

दिल्ली। हिन्दू संगठन की ओर से दी गई सुप्रीम कोर्ट में याचिका पर कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखते हुए कहा कि वो इस बात का फैसला आने वाले दिनों में करेंगे कि मस्जिद इस्लाम का अभिन्न अंग है या नहीं। याचिकाकर्ता ने न्यायालय में अयोध्या के विवादित स्थल पर पूजा करने का अधिकार दिलाने की मांग की थी।

 

यह भी पढ़ें : सोमैया बोले ये क्या लगा रखा है बंगाल में?

 

हिन्दू संगठन की याचिका से पहले मुसलमान समूह की तरफ से माननीय न्यायालय में याचिका दी गई थी। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली विशेष पीठ ने इस याचिका पर अपना फैसला 20 जुलाई को ही सुरक्षित रख लिया था। याचिका में अनुरोध किया गया था कि मस्जिद इस्लाम का अभिन्न अंग नहीं है बताने वाले 1994 के फैसले की दोबारा से समीक्षा करायी जाएं।

 

यह भी पढ़ें : कोर्ट की सख्ती के बाद ताजमहल पर यूपी सरकार ने दाखिल किया विजन डाक्यूमेंट

 

प्रधान न्यायाधीश के अलावा , न्यायमूर्ति ए . एम . खानविलकर और न्यायमूर्ति डी . वाई . चन्द्रचूड़ की पीठ ने स्वामी से कहा कि वह इस मामले में फैसला आने के बाद उचित तरीके से अपनी याचिका सूचीबद्ध कराते हुए उस पर जल्दी सुनवाई का अनुरोध करें। स्वामी ने न्यायालय से पूजा करने का अपना अधिकार जल्दी दिलाने का अनुरोध किया था।

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी