कमजोर गठबंधन देश के लिए अच्छा नहीं : एनएसए अजीत डोभाल

Foto

National News / राष्ट्रीय समाचार

नई दिल्ली। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल ने गुरुवार को सरदार पटेल मेमोरियल में बोलते हुए कहा कि भारत को अगले 10 सालों के लिए एक स्थिर , मजबूत और निर्णायक सरकार चाहिए। आगे उन्होंने कहा कि हम पर जनता के प्रतिनिधियों का नहीं, उनके बनाए कानूनों का शासन है, इसलिए कानून का राज बेहद अहम है।

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) में मचे भूचाल और अन्य मामलों पर अजीत डोभाल ने सरकार का पक्ष रखा। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र भारत की सबसे बड़ी ताकत है। अगर देश में लोकतंत्र कमजोर होता है, तो इससे हमारा देश कमजोर होगा। आगे डोभाल ने कहा कि कमज़ोर सरकार सख्त फैसले नहीं ले सकती।  

अजीत डोभाल ने कहा कि इस वक्त देश को निर्णायक सरकार और निर्णायक नेतृत्व की सरकार की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि भारत को कड़े फैसले लेने की जरूरत हैं। ऐसे में अगले कुछ सालों के लिए एक नरम सरकार को वहन नहीं कर सकता।

उन्होंने कहा कि कमजोर गठबंधन की सरकार से भारत कमजोर होगा और यह अच्छा नहीं है। एनएसए ने कश्मीर मुद्दे पर बात करते हुए कहा कि इस मामले पर जवाहरलाल नेहरू ने सरदार पटेल की बात नहीं मानी थी।

डोभाल ने कहा कि केंद्र सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा कि सरकार के नीतिगत निर्णयों के कारण ही सभी रक्षा मशीनरी 100 फीसदी ट्रांसफर ऑफ टेक्नॉलजी के रूप में हो रही है। उन्होंने कहा कि अगर भारत को दुनिया की सबसे बड़ी ताकत बनाना है तो हमें अपनी अर्थनीति को मजबूत करना होगा। इसके लिए कुछ कड़े फैसले लेने पड़ लकते हैं। यह कड़े फैसले एक स्थिर सरकार ही ले सकती है।

यह भी पढ़ें: बीजेपी के लिए ताकत है राहुल गांधी : ओवैसी

यह भी पढ़ें: ... तो मायावती बनेंगी देश की अगली पीएम!

 

leave a reply

भारत के समाचार

Live: ख़बरें सबसे तेज़

प्रमुख श्रेणी